निजामुद्दीन में कोरोना बम फोड़वाकर फरार हुआ मौलाना मोहम्मद शाद, तलाश में जुटी दिल्ली पुलिस

राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन ईलाके में स्थित तब्लीगी मरकज जमात हेडक्वार्टर के मौलाना मोहम्मद शाद फरार हो गए हैं, मौलाना की तलाश करने के लिए दिल्ली क्राइम ब्रांच की आठ टीमें लगाई हैं. मालूम हो की तब्लीगी मरकज जमात जलसे में शामिल 6 लोगों की मौत तेलंगाना में कोरोना वायरस के कारण हो गई है. इसके बाद पुलिस ने तब्लीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. और उसको तलाश रही है.

इसके अलावा निजामुद्दीन तब्लीगी जमात मरकज में शामिल लगभग 600 मौलानाओं को कोरोना वायरस के संदिग्ध लक्षण के चलते ही दिल्ली की अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. इनमें से 24 मौलाना कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.

बता दें कि – राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन में 1 से 15 मार्च के बीच तब्लीगी जमात का जलसा था। इस दौरान ना सिर्फ भारत बल्कि दुनियाभर से मौलाना लोग यहां जुटे थे। काफी लोग देश के अलग-अलग हिस्सों में गए जबकि करीब एक हजार लोग यहीं रह गए। रविवार को मरकज में रह रहे लोगों में कोरोना के लक्षण देखे गए, इसके बाद सोमवार को दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग ने एक हजार ये ज्यादा लोगों को यहां निकाला। 334 को अस्पतालों में भर्ती कराया गया है और 700 को क्वारंटाइन केंद्र भेजा गया है। इनमें 24 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके अलावा अन्य लोगों को आइसोलेट किया गया है। वहीँ मौलाना साद के ऊपर दिल्ली पोलिस ने एफआईआर दर्ज की है।