अर्नब पर हमलें के बाद बोले मंत्री विज, प्रेस की स्वतंत्रता पर हमला करना कांग्रेस के DNA में है

रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के संस्थापक और देश के जानें-मानें पत्रकार अर्नब गोस्वामी ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से पालघर में हुई दो संतों की मॉब लिंचिंग पर सवाल क्या पूछ लिया, कांग्रेसी अर्नब की जान के पीछे पड़ गए हैं। इसी बौखलाहट में कांग्रेसी गुंडों ने बुधवार-गुरूवार की रात अर्णब पर जानलेवा हमला किया। हरियाणा के गृहमंत्री और भाजपा नेता अनिल विज ने इस हमलें की निंदा की है।

मंत्री अनिल विज ने ट्वीट कर कहा है कि, स्वर्गीय इंदिरा गांधी द्वारा देश में आपातकाल घोषित किए जाने के बाद से प्रेस का गला घोटनें वायरस अभी जीवित हैं। मंत्री विज ने #CongressGoonsAttackArnab हैशटैग के साथ ट्वीट में आगे लिखा, प्रेस की स्वतंत्रता पर हमला करना कांग्रेस के डीएनए में है।

बता दें कि – अर्णब गोस्वामी पर मुंबई में बुधवार देर रात दो लोगों ने हमला करने की कोशिश की। जब वे इसमें नाकाम रहे तो कार पर स्याही फेंक दी। घटना के वक्त उनकी पत्नी समिया गोस्वामी भी साथ थीं। एमएम जोशी पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 341, 504 के तहत एफआईआर दर्ज हुई है। दोनों आरोपियों को पकड़ लिया गया है और उनसे पूछताछ जारी है। दोनों आरोपियों ने खुद को यूथ कांग्रेस का कार्यकर्ता बताया है।

गौरतलब है कि – पालघर में दो साधुओं की मॉब लिंचिंग पर अर्नब गोस्वामी ने कहा था कि अगर किसी पादरी की हत्या होती तो कांग्रेस पार्टी पार्टी और ‘रोम से आई हुई, इटली वाली’ सोनिया गाँधी बिलकुल चुप नहीं रहतीं। अर्नब ने दावा किया कि मॉब लिंचिंग पर सोनिया गाँधी आज चुप हैं तो इसका मतलब है कि वो मन ही मन में खुश भी हैं। अर्नब के इस बयान से ही कांग्रेसी आगबबूला हो गए हैं।