इलाहाबाद विवि के प्रो. भी निजामुद्दीन जमात में हुए थे शामिल, जानकारी छिपाने के आरोप में FIR दर्ज

निजामुद्दीन तब्लीगी जमात के बाद देशभर में कोरोना मरीजों संख्या में राकेट की रफ़्तार से वृद्धि हो रही है। मरकज से लौटकर बाद अपने-अपने राज्यों में गये जमाती कोरोना फैला रहे हैं। सरकार अब इन जमातियों से अपील कर रही है की जितने भी लोग निजामुद्दीन मरकज में शामिल हुए थे वो आकर जांच कराएं, इसके बावजूद कुछ लोग छुपे हुए हैं।

ताजा मामला प्रयागराज से आया है। जहाँ इलाहाबाद विश्वविद्यालय के प्रोफेसर पर एफआईआर दर्ज की गई है। प्रोफेसर पर जमात में शामिल होने की जानकारी छुपाने का आरोप है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, जमात से लौटने के बाद प्रोफेसर ने इलाहाबाद विश्विद्यालय में चल रही परीक्षा के दौरान कक्ष नियंत्रक के तौर पर ड्यूटी भी की थी। एसपी सिटी के मुताबिक प्रोफेसर और उनकी पत्नी और बच्चे को करेली गेस्ट हाउस में क्वॉरेंटाइन किया गया है जहां उनकी थर्मल स्क्रीनिंग की गई है।

बता की इलाहाबाद विवि में एक प्रमुख विषय के विशेषज्ञ प्रोफ़ेसर अक्सर विदेशो में अपने लेक्चर के लिए जाते है। दुनियां भर में उनके छात्र है। शहर के बेहद प्रतिष्ठित शिक्षको में सुमार प्रो द्वारा जानकारी छूपाने के बात ने सबको हैरान कर दिया है। वही प्रशासन द्वारा पूरे इलाके को सैनेटाइज किया गया है।