बच्चों का रखें विशेष ध्यान, 14.4% लोगों की मौत सिर्फ 0-से लेकर इतने साल तक के बीच में हुई है

नई दिल्ली, 18 अप्रैल: देस-दुनिया में कोरोना वायरस जमकर कहर बरपा रहा है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए भारत सरकार ने 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ा दिया है। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लोग खुद को सुरक्षित रख रहे हैं। परन्तु लोग जितना खुद को सुरक्षित रख रहे हैं उतना बच्चों को भी सुरक्षित रखें नहीं तो परिणाम गंभीर हो सकते हैं।

दरअसल कोरोना वायरस संक्रमण फैलने के बाद एक अफवाह बहुत तेजी से फ़ैली थी की कोरोना सिर्फ बुजुर्गों को हो रहा है यानी 60 साल जो पार कर गए हैं वो ज्यादा कोरोना का शिकार हो रहे हैं। हालाँकि भारत सरकार ने आज जो आंकड़े पेश किये हैं वो बिल्कुल इसके विपरीत हैं। यानि किसी को यह सोंचकर बिल्कुल भी लापरवाही नहीं करना है की कोरोना तो सिर्फ बुजुर्गों को होगा।

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने जानकारी देते हुए बताया की, देश में मृत्यु दर लगभग 3.3% है। 0-45 वर्ष के आयु वर्ग में 14.4% लोगों की मौतें हुई हैं। 45-60 साल के बीच 10.3% लोगों की मौतें हुई हैं। 60-75 साल के बीच 33.1% लोगों की मौतें हुई हैं और 75 साल से ऊपर की आयु में 42.2% हुई हैं।

उन्होंने बताया की, 1992 लोग कोरोना से जंग लड़कर ठीक हो चुके हैं, पिछले 24 घंटे में 991 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं, कुल मामलों की संख्या 14378 हो गई है, पिछले 24 घंटे में 43 नई मौत भी हुई हैं, जिससे मरने वालों की कुल संख्या 480 हो गई है।