इस राज्य में नहीं था कोरोना का नामोनिशान, लेकिन निजामुद्दीन जमातियों के कारण 5 को हुआ कोरोना

असम, 1 अप्रैल: भारत का एक ऐसा भी राज्य था, जहाँ अभी से 24 घंटे पहले कोरोना वायरस का नामोनिशान नहीं था, लेकिन निजामुद्दीन मरकज जमात के कारण अब इस राज्य में कोरोना के 5 मरीज हो गए हैं। जी हाँ? हम बात कर रहे हैं असम की।

निजामुद्दीन मरकज जमात से पहले असम पूरी तरह कोरोना मुक्त था। लेकिन अब एकसाथ कोरोना के 5 मरीज हो गए हैं। ये सभी मरीज निजामुद्दीन मरकज जमात में हिस्सा लेकर हाल ही में राज्य में प्रवेश किये थे। असम के स्वास्थ्य मंत्री हिमंता विस्वा सरमा ने यह जानकारी दी।

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि इस निजामुद्दीन जलसे में हिस्सा लेने वाले 347 लोग लौट आए हैं इनमें से 230 लोग जांच के लिए सामने नहीं आए हैं। वे खुले में घूम रहे हैं। यह खतरनाक हैं। मंत्री ने इन सबसे मीडिया के जरिए अपील की कि वे खुद-ब-खुद जांच के लिए सामने आएं। अन्यथा वे अपने परिवार और समाज के लिए खतरा बनेंगे। पॉजीटिव पाए गए व्यक्तियों के संपर्क में आए व्यक्तियों की तलाश कर उन्हें भी क्वारेंटाइन में रखा जा रहा है।

बता दें कि – राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन में 1 से 15 मार्च के बीच तब्लीगी जमात का जलसा था। इस दौरान ना सिर्फ भारत बल्कि दुनियाभर से मौलाना लोग यहां जुटे थे। काफी लोग देश के अलग-अलग हिस्सों में गए जबकि करीब एक हजार लोग यहीं रह गए। रविवार को मरकज में रह रहे लोगों में कोरोना के लक्षण देखे गए, इसके बाद सोमवार को दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग ने एक हजार ये ज्यादा लोगों को यहां निकाला। 334 को अस्पतालों में भर्ती कराया गया है और 700 को क्वारंटाइन केंद्र भेजा गया है। इनमें 24 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके अलावा अन्य लोगों को आइसोलेट किया गया है।

loading...