महाराष्ट्र में पुलिस के सामनें पीट-पीटकर की गई दो साधुओं की ह्त्या, उद्धव के हिंदुत्व पर उठे सवाल

पालघर, 20 अप्रैल: महाराष्ट्र के पालघर में गुरुवार को दो साधुओं सहित एक ड्राइवर की पीट-पीटकर ह्त्या कर दी गई। हैरानी की बात यह है की पुलिस के सामनें लगभग 200 की भीड़ ने साधुओं की ह्त्या की और पुलिस तमाशा देखती रही है। घटना को पहले तो दबाने की पुरजोर कोशिश की गई। लेकिन दबी नहीं।

इस घटना को कई दिन बीत जानें के बावजूद आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के हिंदुत्व पर सवाल उठाया जा रहा है। लोगों का कहना है की कभी उद्धव के पिता स्वर्गीय बालासाहेब ठाकरे के राज में साधू-संत महाराष्ट्र में ज्यादा सुरक्षित महसूस करते थे। लेकिन अब तो साधुओं को महाराष्ट्र में पीट-पीटकर मारा जा रहा है और बेटा ( उद्धव ठाकरे ) सीएम होते हुए भी कोई ठोस एक्शन नहीं ले रहा है।

हैरानी की बात यह है की भीड़ से खुद को बचाने के लिए वृद्ध साधू बार-बार पुलिस का हाथ पकड़ रहा था लेकिन पुलिस वाला पुलिस वाला साधू का हाथ झटक भीड़ के हवाले कर दिया। लिहाजा दरिंदों ने साधु को मौत के घाट उतार दिया।

लगभग 200 लोगों की भीड़ 2 साधुओं पर लाठी-डंडों के साथ टूट पड़ी। फ़्लैशलाइट दिखा-दिखाकर पहले गाड़ी पर बड़े बड़े पत्थरों से हमला किया। फिर गाड़ी से खींचकर निकाला और लाठियों से पीट-पीट कर जान ले ली। अब सवाल यह उठता है की पुलिस ने आख़िर भीड़ के हवाले करने की बजाए साधुओं को गाड़ी में बिठाकर वहाँ से क्यों नहीं रवाना किया? ये जाँच का विषय है।

Sponsored Articles
loading...