कोरोना वायरस: फेक न्यूज़ फैलाने वालों पर होगी कड़ी कार्यवाही, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश

नई दिल्ली, 31 मार्च: कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए देश में लगे 21 दिनों के लॉकडाउन के बीच सुप्रीम कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई जारी है। सुप्रीम कोर्ट में यह सुनवाई लॉकदौरान एक दौरान मजदूरों के पलायन की स्थिति पर हो रही है।

सॉलिसिटर जनरल ने सुप्रीम कोर्ट में सरकार का पक्ष रखते हुए बताया की, 6 लाख 63 हज़ार लोगों को आश्रय दिया गया है। 22 लाख 88 हज़ार लोगों तक भोजन और दूसरी ज़रूरी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। अब कोई भी सड़क पर नहीं है। इसके बाद चीज जस्टिस बोबड़े ने कहा की, कोरोना मामलें पर फेक न्यूज़ सबसे बड़ा खतरा है। इसे फैलाने वालों पर कार्रवाई हो।

सीजेआई ने कहा की, सरकार 24 घंटे में लोगों तक सूचनाएं पहुंचाने के लिए पोर्टल बनाए। आश्रय में रखे लोगों का पूरा ध्यान रखे। क्वारंटाइन लोगों का फॉलोअप हो। इसके बाद सॉलिसिटर जनरल ने कहा की, आप विस्तृत आदेश दें हम पालन करेंगें।

वहीँ जस्टिस राव ने कहा की, व्हाट्सएप, फेसबुक, टिक टॉक समेत सभी तरीकों से लोगों तक सही जानकारी पहुंचाई जानी चाहिए।