अरविन्द केजरीवाल को कहा जा रहा दिल्ली का जिनपिंग, पढ़ें क्यों

arvind-kejriwal-xi-jinping-of-delhi-on-lock-down

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को दिल्ली का जिनपिंग कहा जा रहा है, लॉक डाउन के बाद दिल्ली में भगदड़ मच गयी है और केजरीवाल उन्हें रोक नहीं पा रहे हैं, उनके विधायक राघव चड्ढा अफवाह फैलाकर जनता को डरा रहे हैं जिसके लिए आज उनपर गजियाबाद में FIR भी दर्ज हो गयी है।

केजरीवाल क्यों कहा जा रहा दिल्ली का जिनपिंग

कोरोना वायरस पहले चीन में फैला, वहां पर उतनी मौत भी नहीं हुई थी लेकिन जिनपिंग ने भारतीयों और दुनिया के अन्य देशों के लोगों को डराकर उन्हें उनके देशों में जाने को बोल दिया जिसकी वजह से कोरोना वायरस पूरे देश में फ़ैल गया।

इसी तरह से केजरीवाल ने दिल्ली के लोगों को डराकर उन्हें उनके होम स्टेट में जाने को मजबूर कर दिया है जिसकी वजह से पूरे भारत में कोरोना वायरस फ़ैल सकता है, इसीलिए केजरीवाल को जिनपंग कहा जा रहा है, अगर वह दिल्ली के लोगों की मदद करते, उन्हें अपनेपन का अहसास कराते तो दिल्ली से भगदड़ ना मचती।

गरीबों को प्लानिंग के तहत भगाया गया

21 दिनों के लिए लॉक डाउन है, सभी सरकारें अपने नागरिकों, गरीबों, मजदूरों की मदद कर रही हैं लेकिन केजरीवाल और सिसोदिया ने गरीबों, मजदूरों को डराकर और प्लानिंग के तहत उनका यूपी और बिहार की तरफ पलायन करवा दिया ताकि इन गरीबों को पैसे ना देने पड़ें।

यह सब एक सोची समझी रणनीति के तहत किया गया, कई सारे गरीबों के पास रहने की जगह नहीं है लेकिन केजरीवाल सरकार ने कहा कि हम चार लाख लोगों के खाने दो तीन जगहों पर इंतजाम कर रहे हैं, यह सुनकर गरीब और डर गए और लोगों ने सोचा कि हमें एक जगह पर कैद किया जाएगा, इसलिए लोग यूपी बिहार, बंगाल की तरफ अपने गाँवों की तरफ भाग लिए.

कहने को तो दिल्ली में बसें बंद हैं लेकिन केजरीवाल ने अपनी चालाकी के तहत DTC बसें भी चलवा दीं ताकि इन लोगों को यूपी बॉर्डर तक पहुँचने में परेशानी ना हो, इन लोगों से 10 रुपये के बजाय 30 – 50 रुपये किराया भी वसूला गया, मतलब जाते जाते भी केजरीवाल ने कमाने का मौका नहीं छोड़ा।

केजरीवाल ने यह भी कहा कि हम रोजाना 100 नए मरीजों के लिए तैयार हैं और आगे की भी तैयारी कर रहे हैं, केजरीवाल के मुंह से ऐसी बातें सुनकर लोगों ने सोचा कि अब तो कोरोना जरूर फैलेगा और दिल्ली में रहना मुश्किल हो जाएगा, इसलिए यहाँ से भागना ही बेहतर है.

केजरीवाल ने यह कभी नहीं कहा कि हम गरीबों, मजदूरों की आर्थिक मदद करेंगे, उन्होंने सिर्फ ये कहा कि हम चार लाख लोगों के लिए खाने का प्रबंध कर रहे हैं. ये वादा भी झूठा है क्योंकि ऐसा कोई प्रबंध नहीं है, केजरीवाल का मीडिया मैनेजमेंट अच्छा है, करोड़ों रुपये देकर टीवी चैनलों पर विज्ञापन करवा रहे हैं इसलिए मीडिया चैनल भी उनके खिलाफ कुछ नहीं बोल रहे हैं.