भाजपा को चुनाव हारना मंजूर लेकिन मुफ्तखोरी को बढ़ावा देने वाले वादे करना नामंजूर, पढ़ें क्यों

LIKE फेसबुक पेज
why-bjp-not-promoted-muftkhori-in-delhi-news

नई दिल्ली: दिल्ली में भाजपा कर आम आदमी पार्टी की चुनावी जंग में जीत आम आदमी पार्टी की हुई है लेकिन आप की जीत की सबसे बड़ी वजह है फ्री बिजली, पानी कर बस यात्रा देना। चाहती तो भाजपा भी दिल्ली वालों से बिजली पानी और बस यात्रा फ्री करने का वादा करके चुनाव जीत सकती थी लेकिन भाजपा ने ऐसा जान बूझकर नहीं किया, भाजपा को चुनाव हारना मंजूर था लेकिन मुफ्तखोरी को बढ़ावा देने वाले वायदे करना नामंजूर था।

क्यों नहीं किये मुफ्तखोरी के वायदे

भाजपा ने दिल्ली वालों से मुफ्तखोरी के वायदे नहीं किये क्योंकि भाजपा को चुनाव जीतने के बाद अपने वायदे को पूरा भी करना पड़ता, अगर भाजपा दिल्ली में फ्री बिजली देती तो भाजपा शासित अन्य राज्यों के लोग भी यही मांगें करते, अगर भाजपा दिल्ली में फ्री पानी और बस यात्रा की सुविधाएं देती तो पूरे देश की जनता भाजपा से यही मांगें करती, अगर भाजपा पूरे देश में बिजली, पानी और बस यात्रा फ्री कर देगी तो देश का भट्टा बैठ जाएगा। भट्टा तो दिल्ली का भी बैठता जा रहा है लेकिन दिल्ली की जनता को अभी इसका एहसास नहीं है। दिल्ली में विकास ठप्प है, ना रोड निर्माण हो रहे हैं, ना अच्छे अच्छे और वर्ल्डक्लास के फ्लाईओवर बन रहे हैं और ना ही मॉडर्न इंफ्रास्ट्रक्चर बन रहा है, दिल्ली में ऐसा कोई काम नहीं हो रहा है जिसकी वजह से दिल्ली वर्ल्ड क्लास सिटी बन सके, दिल्ली वाले सिर्फ फ्री बिजली पानी और बस यात्रा के लिए केजरीवाल को चुन रहे हैं लेकिन जब दिल्ली धीरे धीरे पीछे होता जाएगा और अन्य शहर और राज्य दिल्ली से आगे बढ़ते जाएंगे तो दिल्ली वालों को अपने पिछड़ेपन का अहसास होगा लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी होगी, कम से कम दिल्ली 10 साल पीछे जा चुकी होगी।

केजरीवाल को सिर्फ दिल्ली देखना है 

अरविन्द केजरीवाल सिर्फ दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं, वे यहाँ तो फ्री फंड के वायदे कर सकते हैं लेकिन जब उन्हें पूरे देश में बिजली पानी और बस यात्रा फ्री करनी पड़े तब वे भी ऐसा नहीं कर पाएंगे क्योंकि इससे पूरे देश का विकास रुक जाएगा, खजाने में पैसे आना बंद हो जाएगा और देश की अर्थव्यवस्था ठप्प हो जाएगा। दिल्ली की जनता की मौज कुछ ही दिनों की है, जल्द ही उन्हें अपने पिछड़ेपन का एहसास होने लगेगा।