राहुल सिन्हा ने किया दिल्ली पुलिस का समर्थन, कहा- जामिया वालों को तबतक पीटते, जबतक लट्ठ न टूट जाती

नई दिल्ली, 17 फ़रवरी: दिल्ली की जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में पिछले साल 15 दिसंबर को हुई घटना से जुड़े कुछ वीडियो सामने आए हैं। इस वीडियो में सुरक्षाबल डंडों से छात्रों को पीटते हुए दिख रहे हैं। बताया गया कि वीडियो जामिया की लाइब्रेरी का है जहां छात्र पढ़ रहे थे और सुरक्षाबल अचानक से घुसकर छात्रों को पीट रहे हैं। वीडियो के सामने आने के बाद से दिल्ली पुलिस और केंद्र सरकार की और खिंचाई होने लगी कि कैसे छात्रों को इस तरह से पीटा जा रहा है।

इसी बीच वरिष्ठ पत्रकार राहुल सिन्हा ने दिल्ली पुलिस का समर्थन करते हुए कहा की, कॉलेजों में गुंडागर्दी करने वालों को तब तक पीटते जबतक लट्ठ न टूट जाती। अपनी बात को मजबूती देने के लिए राहुल सिन्हा ने उत्तर प्रदेश का उदाहरण दिया।

जी न्यूज़ के पत्रकार राहुल सिन्हा ने कहा की, दिल्ली पुलिस से शिकायत है जामिया की लाइब्रेरी में नकाब पहनकर बैठने वालो को बस 2-4डंडे में क्यों छोड़ दिया? यूपी में कॉलेज में गुंडागर्दी करने वालो पर लाठी टूटने तक पिटाई की जाती थी, सिन्हा ने कहा, ऐसे गुंडो को पिटता देख पढ़ने लिखने वालो को सुकून मिलता है, क्योंकि ये न पढ़ते हैं न पढ़ने देते हैं।

गौरतलब है की नागरिकता संसोधन कनून के विरोध में पिछले साल 15 दिसंबर को जामिया नगर में हिंसा हुई थी, हिंसा, आगजनी करने के बाद दंगाई जामिया यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी में घुस गए, जहाँ पुलिस ने इन दंगाइयों को खूब पीटा था।

Sponsored Articles
loading...