NDTV की एक और गन्दी हरकत, BJP को दागदार बताने के लिए ग्राफ में 39% को 81% से बड़ा दिखाया

LIKE फेसबुक पेज
Pic Credit NDTV

नई दिल्ली, 15 फ़रवरी: प्रोपोगैंडा फैलाने के लिए कुख्यात एनडीटीवी नामक न्यूज़ चैनल ने बीजेपी को दागदार दिखाने के लिए एक और घटिया हरकत की है। जी हाँ? गुरुवार को एक कार्यक्रम के दौरान उसने आँकड़ों का ग्राफ गलत तरीके से पेश किया ताकि यह भ्रम पैदा हो कि सबसे ज्यादा दागी सांसद बीजेपी के हैं।

बता दें की एनडीटीवी ने यह कार्यक्रम सुप्रीम कोर्ट के हालिया आदेश पर था। जिसमें SC ने कहा था कि सभी राजनीतिक दलों को अब अपनी साइट और सोशल मीडिया एकाउंट पर आपराधिक नेताओं की प्रोफाइल अपडेट करनी होगी। इसे लेकर NDTV ने कुछ गेस्टों के साथ डिबेट की। इस डिबेट में कई पैनलिस्ट शामिल थे। इसी दौरान एनडीटीवी द्वारा एक ऐसा ग्राफिक दिखाया गया जिससे प्रतीत होता है कि अन्य दलों की तुलना में आपराधिक आरोपों वाले सबसे ज्यादा सांसद बीजेपी के हैं।

एडीआर के आँकड़ों के आधार पर जो ग्राफिक एनडीटीवी ने दिखाया उसमें पॉंच पार्टियों की तुलना की गई थी। इसमें बीजेपी, कॉन्ग्रेस, जदयू, डीएमके और तृणमूल कॉन्ग्रेस शामिल हैं। इन दलों में सबसे कम आपराधिक आरोपों वाले सासंद करीब 39 फीसदी बीजेपी के हैं, जबकि सबसे ज्यादा क्रिमिनल रिकॉर्ड वाले सांसद 81 फीसदी जदयू के हैं। कॉन्ग्रेस के सांसदों दागदार सांसदों का प्रतिशत 57 और DMK तथा टीएमसी का क्रमश: 43 एवं 41 फीसदी है। इन आँकड़ों के आधार पर तैयार ग्राफ में बीजेपी का हिस्सा सबसे छोटा और जदयू का सबसे बड़ा होना चाहिए। लेकिन, सबसे बड़ा ग्राफ बीजेपी का दिखाया गया।

एनडीटीवी की इस घटिया हरकत से अंदाजा लगाया जा सकता है की बीजेपी को बदनाम करने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है। पत्रकारिता का चोला ओढ़कर घटिया हरकत करना एनडीटीवी के डीएनए में है।