CM कमलनाथ का तुगलकी फरमान, डॉक्टर कम से कम 1 शख्स की नसबंदी करें, नहीं तो नौकरी छीन ली जायेगी

LIKE फेसबुक पेज

भोपाल, 21 फ़रवरी: मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार ने तुगलकी फरमान जारी करते हुए डॉक्टरों को आदेश दिया है की कम से कम एक सख्श की नसबंदी करें नहीं तो नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा।

हैल्थ वर्कर्स को इस तरह का फरमान जारी के बाद से कमलनाथ सरकार की खूब आलोचना हो रही है. ये आदेश राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ने राज्य के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को जारी किया है. आदेश में कहा गया है कि जो नसबंदी का टारगेट पूरा न करने पर हैल्थ वर्कर्स को वीआरएस यानी सेवा से मुक्त कर दिया जाएगा।

मध्यप्रदेश में परिवार नियोजन कार्यक्रम में कर्मचारियों के लिए 5 से 10 पुरूषों की नसबंदी कराना अनिवार्य किया गया है। मध्य प्रदेश हैल्थ मिशन की वेबसाईट पर बताया गया है कि जनसंख्या वृद्धि को नियंत्रित करने के उद्देश्य से भारत वह पहला देश था, जिसनें इस कार्यक्रम को राष्ट्रीय कार्यक्रम के रूप में साल 1952 में ही अपना लिया था। इसमें लिखा है कि इस कार्यक्रम में पुरुषों की सहभागिता बढ़ाना सबसे बड़ी चुनौती है।