जामिया के उपद्रवियों पर पत्रकार ने साधा निशाना, कहा, पहले कागज नहीं दिखाएंगे अब मुंह भी छिपाएंगे

LIKE फेसबुक पेज

नई दिल्ली, 17 फ़रवरी: जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के उत्पाती छात्रों पर वरिष्ठ पत्रकार अमिश देवगन ने निशाना साधा है। दरअसल जामिया में पुलिस की कथित बर्बरता के दो महीने बाद एक नया वीडियो सामने आया है, जिसमें कथित तौर पर लिसकर्मी पिछले साल 15 दिसंबर को विश्वविद्यालय के पुस्तकालय में छात्रों पर लाठीचार्ज करते दिख रहे हैं।

पत्रकार अमीश देवगन ने ट्वीट किया, इसका पहले का video कहाँ हैं ? और कपड़ा बांध कर कौन से छात्र पड़तें है ? क्या ये क्लिप एडिटिड है? एक अन्य ट्वीट में उन्होंने मोहम्मद जीशान अयूब को जवाब देते हुए कहा, लाइब्रेरी में पढ़ते समय आप अपने चेहरे को ढकते हैं? यदि आपने ऐसा किया है तो प्लीज एक तस्वीर साझा करें और फिर ट्वीट करें और लोगों को गुमराह करें। पहले काग़ज़ नहीं दिखाएंगे अब मुँह भी छिपाएँगे?

बता दें की 16 फरवरी को जामिया समन्वय समिति ने 48 सेकेंड का एक वीडियो जारी किया है जिसमें कथित तौर पर पुलिस के करीब सात-आठ कर्मी ओल्ड रीडिंग हॉल में प्रवेश करते और छात्रों को लाठियों से पीटते दिख रहे हैं। ये कर्मी रूमाल से अपने चेहरे ढंके हुए भी नजर आ रहे हैं। विशेष पुलिस आयुक्त (खुफिया विभाग) प्रवीर रंजन ने कहा कि यह वीडियो पुलिस के संज्ञान में आया है और वह वर्तमान जांच प्रक्रिया के तहत उसकी भी जांच करेगी। बताया जा रहा है कि जामिया ने बस 48 सेंकेंड का वीडिया जारी किया किया है जिसमें इस प्रकरण का बस एक ही पक्ष दिखाया गया था। उसने दूसरे वीडियो नहीं दिखाये जिनमें दंगाई परिसर में दाखिल होते हुए नजर आ रहे हैं और कुछ अन्य उन्हें पुलिस से बचा रहे हैं।