जामिया के उपद्रवी छात्रों और इनके समर्थकों को पकड़कर जेल में डालो, चक्की पिसवाओ: पायल रोहतगी

LIKE फेसबुक पेज

नई दिल्ली, 17 फ़रवरी: बॉलीवुड अभिनेत्री पायल रोहतगी ने कहा है की जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के दंगाई छात्रों को पकड़कर जेल में डाला जाना चाहिए और जेल में इनसे चक्की पिसवाना चाहिए? तब इनका दिमाग ठिकाने लग जाएगा? यही नहीं अभिनेत्री ने कहा, जामिया के दंगाइयों का समर्थन करने वाले लिबरलों को भी पकड़कर जेल में डालना चाहिए?

दरअसल नागरिकता संसोधन कानून ( CAA ) के विरोध में पिछले साल 15 दिसंबर को दिल्ली के जामिया में हिंसा, आगजनी हुई थी, उपद्रवियों ने कई बसों को आग के हवाले कर दिया था। उत्पात मचाने के बाद सभी उपद्रवी ( कथित छात्र ) जामिया मिल्लिया इस्लामिया के लाइब्रेरी में जाकर दुबक कर बैठ गए। ताकि ये साबित हो सके की वो तो पढाई कर रहे हैं। हिंसा में उनका कोई हाथ नहीं है। दिल्ली पुलिस इन उपद्रवी छात्रों का पीछा करते हुए लाइब्रेरी जा पहुंची और जमकर कुटाई की।

इस घटना का सीसीटीवी वीडियो डेढ़ महीनें बाद जामिया कोऑर्डिनेशन कमेटी ने साजिश के तहत वायरल किया गया, वो भी काट-छांटकर, ताकि दिल्ली पुलिस को दोषी साबित किया जा सके। लेकिन अपने ही जल में फंस गए? कुछ देर बाद इस घटना का एक और सीसीटीवी वीडियो सामने आ गया। जिसमें साफ़-साफ़ दिखाई दे रहा था की जामिया के छात्र हिंसा, आगजनी करके मुंह में रुमाल बांधकर लाइब्रेरी में घुस रहे हैं। जब पुलिस लाइब्रेरी में पहुंची तो कुछ छात्र बंद किताबें पढ़ने का नाटक करने लगे। यही नहीं कुछ छात्रों के हाथ में पत्थर भी दिखाई दिए? अब आप खुद सोंचिये की कोई छात्र मुंह में रुमाल बांधकर और किताब बंद करके क्या पढाई करेगा। उस समय तो कॅरोना वायरस भी नहीं था।

इन सबके के बावजूद कुछ पत्रकार, कुछ विपक्षी नेता इन दंगाई छात्रों को क्रांतिकारी छात्र बताने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। इन छात्रों को निर्दोष साबित करने के लिए दिन-रात एक कर दिए हैं। लेकिन पायल रोहतगी ने कहा है की, इन दंगाइयों की जगह जेल है?