निर्भया के दरिंदों के वकील बोले- सुप्रीम कोर्ट में दाखिल करेंगे क्यूरेटिव पिटीशन

नई दिल्ली, 7 जनवरी: निर्भया केस के चारों दरिंदों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी पर लटकाया जाएगा, मंगलवार को मामले की सुनवाई करते हुए पटियाला हाउस कोर्ट ने डेथ वारंट जारी किया. कोर्ट के इस फैसले के साथ ही निर्भया को न्याय मिल गया है. वहीं, दोषियों के वकील एपी सिंह ने कोर्ट के आदेश के बाद कहा है कि वह सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दायर करेंगे।

डेथ वारंट जारी करते हुए पटियाला हाउस कोर्ट ने कहा की, 22 जनवरी के बीच अगर आरोपी चाहें तो बचे हुए कानूनी विकल्प का इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर वे ऐसा नहीं करते हैं तो उन्हें फांसी दे दी जाएगी।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के सुनवाई के दौरान जज ने दोषियों से पूछा कि क्या जेल प्रशासन ने आपको नोटिस दिया था? इस पर सबने कहा कि हमें नोटिस दिया गया।

बता दें की 16 दिसंबर, 2012 की रात दिल्ली में पैरामेडिकल छात्रा (निर्भया) से 6 लोगों ने चलती बस में दरिंदगी की थी। गंभीर जख्मों के कारण 26 दिसंबर को सिंगापुर में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। इस मामले में पवन, अक्षय, विनय और मुकेश को फांसी की सजा सुनाई गई है। ट्रायल के दौरान मुख्य दोषी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। एक अन्य दोषी नाबालिग होने की वजह से 3 साल में सुधार गृह से छूट चुका है।