एक इंच में सिमट गए आजादी गैंग की सरदार आइशी घोष के 16 टाँके, लोग हैरान

नई दिल्ली, 11 जनवरी: जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी ( जेएनयू ) मामले में दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की विशेष जांच दल (SIT) ने जेनएयू छात्रसंघ आइशी घोष सहित 9 वामपंथी छात्रों को आरोपी बनाकर उनके खिलाफ सबूत पेश किये? दिल्ली पुलिस की प्रेस-कॉन्फ्रेंस के तुरंत बाद आइशी घोष ने प्रेस-कॉन्फ्रेंस करके खुद को निर्दोष बताया।

हालाँकि आइशी घोष शुक्रवार ( 10 जनवरी ) को जब मीडिया के सामने आई तो अपने सिर पर सिर्फ बैंडेड लगाकर आई थी, जबकि इससे एक दिन पहले जब आइशी घोष प्रेस-कॉन्फ्रेंस करने आई थी तो पूरे सिर में पट्टी बाँध कर आयी थी. इसके बाद अंग्रेजी अख़बार ‘द टेलीग्राफ’ ने दावा किया था की आइशी घोष जेएनयू हिंसा में घायल हुई थी और उन्हें 16 टाँके लगे थे।

अब आप सोंचिये जिसके सिर में 16 टाँके लगे हो उसका हाल क्या होगा? खैर इसको छोड़िये, अगर आइशी घोष के सिर में 16 टांके लगे थे तो क्या एक ही दिन में उनका जख्म ख़त्म हो गया और टाँके कट गये, अगर ऐसा नहीं तो, आइशी घोष सिर्फ एक बैंडेड लगाकर क्यों आयी, क्या सिर्फ एक बैंडेड में 16 टाँके कवर हो सकते हैं, इसका जवाब खुद आइशी घोष को आकर देना चाहिए। नहीं तो लोग यही समझेंगें की आइशी घोष सहानुभूति के लिए प्रोपोगैंडा फैला रही है।

loading...