जामिया की महिलाओं को 8 फ़रवरी तक मिलती रहेगी बिरयानी और 500 रुपये दिहाड़ी, उसके बाद काम ख़त्म

jamia-shaheen-bagh-paid-protest-against-caa-exposed

नई दिल्ली: इस वक्त देशभर में सिर्फ यही चर्चा है की दिल्ली में जामिया के शाहीन बाग़ इलाके में महिला प्रदर्शनकारियों को दोनों टाइम बिरयानी और रोजाना 500 रुपये देकर धरने पर बिठाया जा रहा है, अब सवाल ये है की इसकी फंडिंग कौन और क्यों कर रहा होगा, जाहिर है भाजपा के खिलाफ दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ही मैदान में हैं, कांग्रेस के कई नेता जामिया में जा चुके हैं तो आप के विधायक अमानतुल्लाह भी दंगों को भड़काने में काफी आगे रहे थे, पूरा शक आप और कांग्रेस पर ही जा रहा है।

अब सवाल ये उठता है कि इन महिलाओं को कब तक बिरयानी और 500 रुपये दिहाड़ी मिलेगी। कुछ लोग कह रहे हैं कि सिर्फ चुनाव तक यह प्रदर्शन चलेगा, सिर्फ वोटबैंक को मजबूत करने के लिए यह प्रदर्शन करवाया जा रहा है, 8 फ़रवरी को वोटिंग के बाद यह धरना अपने आप ख़त्म हो जाएगा क्योंकि वोटिंग के बाद फंडिंग करने वालों का मकसद पूरा हो जाएगा।

आपको बता दें कि दिल्ली के जामिया के शाहीन बाग़ मुस्लिम बहुल इलाके में पिछले एक महीनें से नागरिकता संसोधन कानून CAA के खिलाफ प्रदर्शन हो रहा है, इस प्रदर्शन में रोजाना कुछ नेता भी पहुँचते हैं, नेता लोग ऐसा प्रचारित कर रहे हैं की प्रदर्शनकारी CAA के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं, प्रदर्शन में भारी संख्या में महिलाएं भी दिखती हैं, नेता लोग यह साबित करना चाहते हैं की महिलाएं भी इस बिल के खिलाफ हैं। अब इस प्रदर्शन पर बड़ा खुलासा हुआ है।

एक स्टिंग वीडियो में पूरे कांड का पर्दाफाश हो गया। एक युवक ने बताया की ये CAA के खिलाफ नहीं बल्कि रोजाना 500-500 रुपये लेने के लिए प्रदर्शन हो रहा है, किसी राजनीतिक पार्टी या घोर मोदी विरोधी के द्वारा ये प्रदर्शन करवाया जा रहा है।

इस प्रदर्शन में शामिल महिलाओं को रोजाना 500-700 रुपये दिए जाते हैं, अगर महिला को किसी काम से घर या अन्य स्थान पर जाना होता है तो वह अपने स्थान पर किसी दूसरी महिला को बिठा जाती है ताकि उसकी जगह खाली ना हो और उसका 500 रुपये रोज उसे मिलता रहे, कई बार शिफ्ट में भी प्रदर्शन करवाए जाते हैं, मान लो 500 महिलाएं प्रदर्शन में बैठी हैं, उन 500 महिलाओं की तभी छुट्टी होती है जब उनकी जगह लेने वाली 500 महिलाओं का इंतजाम हो जाता है।

युवक ने बताया कि इस प्रदर्शन में चाय और बिरयानी भी मिल रही है। खाना पीना भी मिल रहा है और 500 रुपये भी मिल रहे हैं तो महिलाओं के लिए इससे बढ़िया और क्या हो सकता है। यह मुस्लिम बहुल इलाका है इसलिए महिलाएं अपने घर भी घूम आती हैं और अपने स्थान पर अपने परिवार की किसी दूसरी महिला को बिठा जाती हैं। देखिये वीडियो –

loading...