कोटा के बाद गहलोत के गृहनगर में भी 1 महीने में 146 बच्चों की मौत, कटघरे में कांग्रेस सरकार

LIKE फेसबुक पेज

जोधपुर, 5 जनवरी: राजस्थान के कोटा के जेके लोन अस्पताल में शनिवार तक 35 दिन में 107 बच्चों की मौत हुई। यहीं हाल मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृहनगर जोधपुर में देखा जा रहा है। बेहतर इलाज और सुविधाएं नहीं मिलने से डॉ. सम्पूर्णानंद मेडिकल कॉलेज में महीनेभर में 146 बच्चे दम तोड़ चुके हैं। इसमें से 102 नवजात थे, मुख्यमंत्री अशोक बच्चों के मरने के सवाल को अनसुना कर निकल गए।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, जोधपुर मेडिकल कॉलेज एमडीएम और उम्मेद अस्पताल में शिशु रोग विभाग का संचालन करता है। यहां 5 जिलों- जैसलमेर, बाड़मेर, जालौर, सिरोही और पाली से मरीज आते हैं।

दिसंबर में यहां के शिशु रोग विभाग में 4689 बच्चे भर्ती हुए थे, इनमें 3002 नवजात थे। इलाज के दौरान 146 की मौत हो गई। कोटा त्रासदी के बाद कॉलेज प्रबंधन द्वारा तैयार एक रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ। कोटा और जोधपुर में बड़े पैमाने पर हो रही बच्चों की मौत के बाद कांग्रेस सरकार कटघरे में है।