कई राज्यों में कांग्रेस सरकार, इसलिए नहीं उठा रही मंहगे प्याज, पेट्रोल-डीजल और GST का मुद्दा

why-congress-not-raising-inflation-onion-gst-petrol-issue

फरीदाबाद, 1 दिसंबर: नवंबर 2018 तक देश के अधिकतर राज्यों में भाजपा की सरकारें थीं, अधिकतर बड़े राज्यों जैसे – महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ आदि में भाजपा का राज था, कांग्रेस की कुछ ही राज्यों में सरकारें थी इसलिए कांग्रेस मंहगे पेट्रोल-डीजल का मुद्दा उठाती थी, कई बार तो कांग्रेस ने यह भी कहा था कि हम पेट्रोल-डीजल को GST दायरे से बाहर लाएंगे ताकि पेट्रोल-डीजल 50 रुपये से भी सस्ता हो जाएगा.

अब कई राज्यों में कांग्रेस और उसके गठबंधन की सरकारें बन गयी हैं, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ जैसे बड़े राज्यों में भी कांग्रेस की सरकारें हैं इसलिए कांग्रेस मंहगी GST, मंहगे पेट्रोल-डीजल और मंहगे प्याज का मुद्दा नहीं उठा रही है, ऐसा इसलिए क्योंकि GST की वजह से कांग्रेस सरकारों की कमाई हो रही है, मंहगे-पेट्रोल डीजल की वजह से कांग्रेस सरकारों की कमाई हो रही है, कई कांग्रेस शासित राज्यों में पेट्रोल-डीजल की कामतें भाजपा शासित राज्यों से अधिक है. अब आप समझ सकते हैं कि पेट्रोल-डीजल और GST का मुद्दा उठाकर कौन अपनी ही कमाई पर कुल्हाड़ी मारेगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एक समय ऐसा लग रहा था कि देश के सभी राज्यों में भाजपा की सरकारें बन जाएंगी इसलिए कांग्रेस ने किसानों की कर्जमाफी, मंहगे पेट्रोल-डीजल और मंहगी GST का मुद्दा उठाना शुरू किया जिसका कांग्रेस को लाभ भी हुआ, कांग्रेस की राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और अब महाराष्ट्र में भी सरकार बन गयी है.

किसानों की कर्जमाफी सिर्फ चुनावी स्टंट है, अगर किसानों का पूरा कर्ज माफ़ कर दिया जाए तो राज्य की अर्थव्यवस्था तबाह हो जाती है, कांग्रेस ने मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान में 24 घंटे के अंदर कर्जमाफी का वादा किया था लेकिन अब तक किसानों का कर्ज माफ़ नहीं किया गया. महाराष्ट्र में भी कॉंग्रेस ने 100 पर्सेंट किसानों के कर्जमाफी का वादा किया है, अब उनकी सरकार भी बन गयी है. कांग्रेस के लिए इम्तहान की घडी है, अगर उन्होंने किसानों का कर्ज माफ़ नहीं किया तो जनता उन्हें झूठा समझेगी और अगर कर्ज माफ़ कर दिया गया तो बैंकें बर्बाद हो जाएंगी और राज्य की अर्थव्यवस्था भी बर्बाद हो जाएगी क्योंकि कर्जमाफी से बैंकों को ब्याज मिलना बंद हो जाता है और अर्थव्यवस्था की रफ़्तार रुक जाती है.

इसी तरह से कांग्रेस मंहगे प्याज का मुद्दा भी नहीं उठा रही है क्योंकि महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और राजस्थान जैसे बड़े राज्यों में कांग्रेस की सरकारें हैं, प्याज की खेती इन्हीं राज्यों में सबसे अधिक होती है, इन्हीं राज्यों से प्याज पूरे देश में सप्लाई होता है। इन राज्यों में भी प्याज की कीमतें आसमान छू रही हैं इसलिए कांग्रेस मंहगी प्याज का मुद्दा नहीं उठा रही है।

Sponsored Articles
loading...