पाकिस्तानी आतंकियों की फंडिंग के दम पर सुन्नी वक्फ बोर्ड में जमे थे राजीव धवन: रामविलाश वेदांती

LIKE फेसबुक पेज

नई दिल्ली, 3 दिसंबर: अयोध्या मामलें पर रिव्यू पेटिशन दाखिल करने वाले मुस्लिम संगठन जमीयत उलेमा ए हिन्द ने सीनियर वकील राजीव धवन को केस से हटा दिया है, राजीव धवन मुस्लिम पक्ष यानी सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील थे. इस मामलें को लेकर पूर्व सांसद और राम जन्मभूमि न्यास के सदस्य डॉक्टर रामविलास वेदांती का बयान सामने आया है.

वेदांती ने कहा की – सुन्नी वक्फ बोर्ड को उन्हें मुकदमा प्रारंभ होने से पहले ही हटा देना चाहिए था, लेकिन राजीव धवन पाकिस्तानी आतंकवादियों द्वारा किए जा रहे फंडिंग के दम पर बोर्ड में जमे रहे।

मंगलवार को खंडवा में मीडिया से चर्चा करते हुए वेदांती ने कहा कि राजीव धवन-सुन्नी वक्फ बाेर्ड काे भी आतंवादियों का पैसा देते थे। सब मिलकर षड्यंत्र कर रहे थे, इसे सुप्रीम काेर्ट के मुख्य न्यायधीशाें ने नकार दिया। 40 दिनाें के अंदर ये विश्व का ऐतिहासिक फैसला है जिसे सभी लाेगाें ने स्वीकार किया है।