NRC का विरोध करके अपने पिता राजीव गाँधी के खिलाफ ही खड़े हैं राहुल-प्रियंका, पढ़ें क्या है वजह

LIKE फेसबुक पेज
rahul-gandhi-priyanka-gandhi-stand-against-his-father-rajic-gandhi-on-nrc

नई दिल्ली: अगर कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के एक साल पुराने वीडियो पर यकीन करें तो राहुल गाँधी और प्रियंका गांधी अपने पिता राजीव गाँधी के फैसले के खिलाफ ही सडकों पर उतर गए हैं। आप देख रहे होंगे, कांग्रेस पूरी तरह से NRC का विरोध कर रही है, राहुल गाँधी, प्रियंका गाँधी और सभी कोंग्रेसी मुख्यमंत्री एनआरसी को मुस्लिम विरोधी बताते हुए धरना दे रहे हैं.

इस बीच कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला का एक 2018 का वीडियो जारी हुआ है जिसे सुनकर कोंग्रेसी शर्म से डूब मरेंगे। इस वीडियो में रणदीप सुरजेवाला एनआरसी को कांग्रेस की उपलब्धि बताते हुए कह रहे हैं की राजीव गाँधी ने आसाम की राजनीतिक पार्टियों से मिलकर 15 अगस्त 1985 को एक संधि की थी और एनआरसी उसी संधि का परिणाम है और एनआरसी राजीव गाँधी द्वारा की गयी आसाम सन्धि का बेबी है, उन्होंने यह भी बताया की भाजपा सरकार ने एनआरसी के लिए कोई काम नहीं किया, पूर्व अटल भाजपा सरकार ने एनआरसी प्रक्रिया के लिए सिर्फ पांच लाख रुपये दिए हैं।

रणदीप सुरजेवाला ने बताया की 2005 में कांग्रेस यूपीए सरकार ने फिर से एनआरसी प्रक्रिया को शुरू किया और लगभग 490 करोड़ दिए और 25000 Enumerator लगाए गए ताकि हर विदेशी जो आसाम के अंदर है उसकी पहचान हो, जो पहली ड्राफ्ट लिस्ट आयी है वो एनआरसी का पहला चरण है।

सुरजेवाला ये भी बता रहे हैं की 2005 से 2013 तक 82728 बांग्लादेशी नागरिकों को कांग्रेस की यूपीए सरकार द्वारा डिपोर्ट किया गया। भाजपा ने पिछले पांच वर्षों में 1822 बांग्लादेशियों को डिपोर्ट किया है।

यह वीडियो 2018 का है यानी एक साल पहले तक कांग्रेस एनआरसी को अपनी उपलब्धि बताती थी लेकिन एक साल में ही कांग्रेस बदल गयी और एनआरसी का खुलकर विरोध करने लगी है, इसकी वजह भारत में मुस्लिमों की बेतहाशा बढ़ती आबादी हो सकती है क्योंकि अब राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी को मुस्लिमों में एक बड़ा वोटबैंक नजर आता है इसलिए अपने पिता की बेबी यानी NRC के खिलाफ सड़क पर उतर गए हैं और NRC विरोधी आंदोलन का समर्थन कर रहे हैं। देखिये वीडियो –