निर्भया के दोषी को फांसी पर लटकने से बचाने के लिए वकील ने दी अजीबोगरीब दलील? जज हैरान

LIKE फेसबुक पेज

नई दिल्ली, 18 दिसंबर: निर्भया गैंगरेप और हत्या के चार दोषियों में एक अक्षय ठाकुर की फांसी पर रोक लगाने की मांग वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान वकील ने अजीबोगरीब दलीलों से सबको हैरत में डाल दिया।

निर्भया के गुनहगार अक्षय कुमार सिंह की तरफ से पेश हुए वकील एपी सिंह ने कानूनी तथ्यों का सहारा लेने की बजाय इधर-उधर की बातें ही करते रहे और कोई भी नया तथ्य या नया सक्ष्य नहीं रख पाए।

वकील ने जज के सामने के सामने सतयुग, त्रेता से लेकर महात्मा गांधी, नाथूराम गोडसे, दिल्ली प्रदूषण और मानवाधिकार तक का हवाला दिया। हालांकि जजों ने इनकी एक भी दलीलों को नहीं माना और साफ शब्दों में कहा की, हमारे फैसले में कमीं क्या है, उसको बताओ जिसके लिए पुनर्विचार याचिका लेकर आये हो?

निर्भया के हत्यारे अक्षय की पुनर्विचार याचिका का सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने पुरज़ोर विरोध किया। मेहता ने कहा- ऐसे राक्षसों को पैदा कर ईश्वर भी शर्मसार होता होगा। इनसे कोई रहम नहीं होनी चाहिए। फिलहाल कोर्ट 1 बजे फिसला सुनाएगा।