दुबई में फंसे 2 दर्जन से अधिक भारतीय, भूखे पेट जीने पर मजबूर, विदेश मंत्री से लगाई मदद की गुहार

LIKE फेसबुक पेज

नई दिल्ली, 4 दिसंबर: गरीबी और पेट की भूख मिटाने के लिए लोग सात समंदर पार तक जाने को तैयार हो जाते हैं। उनके मन में केवल यही ख्वाहिश होती है की घर वालों के चेहरे पर मुस्कान बिखर जाए। इसके लिए कोई ज़ेवर बेचता है तो कोई कर्ज लेकर गल्फ वीजा लेते हैं।

मगर भारत की ज़मीं को छोड़ते ही सामने दुबई और कतर की चमक के पीछे दिखता है काला सच। ऐसे ही सच से उत्तर प्रदेश 2 दर्जन से अधिक युवकों का सामना हो चुका है। जी हाँ, दुबई में फंसे 2 दर्जन से अधिक भारतीयों ने विदेश मंत्री एस. जयशंकर से मदद की गुहार लगाई है।

जानकारी के अनुसार, दुबई में जो दो दर्जन से अधिक भारतीय फंसे हैं, वो सभी मूल रूप से उत्तर प्रदेश के देवरिया के रहने वाले हैं, दुबई में इनके फंसे होने की जानकारी उत्तर प्रदेश के बीजेपी प्रवक्ता शलभमणि त्रिपाठी ने दी है।

शलभमणि त्रिपाठी ने जानकारी देते हुए बताया कि – दुबई की कंपनी ने इन भारतीयों से पासपोर्ट छीन लिए हैं, जिसकी वजह से ये वतन वापसी नहीं कर पा रहे हैं और भुखमरी-लाचारी की हालत में जिंदगी जीने को मजबूर हैं. त्रिपाठी ने बताया की, दुबई में फंसे भारतीयों के राशन-बिस्तर का इंतज़ाम हमारे साथी राजीव राजपूत कर रहे हैं।

त्रिपाठी ने भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर से मदद की गुहार लगाते हुए कहा है कि, दुबई में फंसे भारतीयों को सकुशल वतन वापसी में मदद करें।