पाकिस्तान प्रेमियों को पाकिस्तान जाने की बात कहने वाले मेरठ SP पर मायावती ने भी निकाली भड़ास

mayawati-critizise-meerut-sp-akhilesh-narayan-singh-on-caa

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने भी मेरठ एसपी के खिलाफ अपनी भड़ास निकली है, उन्होंने ट्विटर पर लिखा – उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश में वर्षों से रह रहे मुसलमान भारतीय है ना कि पाकिस्तानी अर्थात् CAA/NRC के विरोध-प्रदर्शन के दौरान खासकर उत्तर प्रदेश के मेरठ SP सिटी द्वारा उनके प्रति साम्प्रदायिक भाषा/टिप्पणी करना अति निन्दनीय व दुर्भाग्यपूर्ण है।

आपको बता दें कि एसपी अखिलेश नारायण सिंह ने पाकिस्तान का नारा लगाने वाले मुस्लिम दंगाइयों को पाकिस्तान जाने की सलाह दी थी जिसके बाद दंगा समर्थकों ने ट्विटर पर उनके खिलाफ अभियान छेड़ दिया, मीडिया भी उनके पीछे पड़ गया जिसके बाद एसपी अखिलेश नारायण सिंह ने सफाई पेश की, उन्होंने कहा की उपद्रवी लोग पुलिस के सामने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा रहे हैं, जब हम उन्हें पकड़ने गए तो वे वहां से भाग गए, हमने वहां पर खड़े लोगों से कहा की अगर इन्हें हिंदुस्तान से नफरत है और पाकिस्तान से प्यार है तो इन्हें कह दो की चले जाएं पाकिस्तान।

आपको बता दें की जुम्मा पर मुस्लिम लोग नमाज पर एकजुट होते हैं। 20 दिसंबर 2019 को जुम्मा यानी शुक्रवार था,, नागरिकता संसोधन कानून के खिलाफ मुस्लिमों ने नमाज पढ़ने के बाद यूपी के अधिकतर शहरों में जमकर हिंसा, आगजनी, दंगा फसाद और उपद्रव किया, योगी सरकार ने पहले ही चेतावनी दी थी की सरकारी नुकसान की भरपाई भी दंगाइयों से की जाएगी, अब यूपी पुलिस ने दंगाइयों की धरपकड़ शुरू कर दी है। इस बीच मेरठ का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें एसपी अखिलेश सिंह जिहादियों को कहते दिख रहे हैं – खाते हो भारत का और गीत गाते हो पाकिस्तान का तो फिर चले जाओ पाकिस्तान। अगर यहाँ रहोगे तो सुधार देंगे, जिन्होंने भी दंगा फसाद किया है हम उन्हें जेल में बंद करके रहेंगे।

यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, देशभक्त लोग एसपी साहब की तारीफ कर रहे हैं तो जिहादी और देशद्रोही लोग उनकी आलोचना कर रहे हैं। वैसे योगी सरकार ने भी साफ़ साफ कह दिया है की दंगाइयों पर इस प्रकार की कार्यवाही की जाएगी की वह पूरे देश में एक मिशाल बने, वसूली तो होकर रहेगी। जिन लोगों ने सरकार को चुनौती दी है उन्हें इसका खामियाजा भुगतना होगा।

इस बीच यह भी पता चला है की जिहादियों पर जो लाठियां बरसाईं गयीं थी और जो लाठियां टूट गयी थीं उन टूटी लाठियों के नुकसान की भरपाई भी जिहादी दंगाइयों से की जाएगी। यही नहीं आंसूं गैस के गोले, और गोलियां चलाने में जो सरकारी खर्चा हुआ है उस नुक्सान की भरपाई भी जिहादी दंगाइयों से की जाएगी।