झारखण्ड में किसी की नहीं बन रही है सरकार, ये दो नेता बन सकते हैं किंगमेकर, पढ़ें

झारखण्ड, 23 दिसंबर: झारखंड विधानसभा चुनाव की मतगणना जारी है। शुरुवाती रुझानों में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत मिलता नहीं दिखाई दे रहा है, ऐसे में अगर अगर त्रिशंकु विधान सभा की स्थिति हुई तो आजसू के अध्यक्ष सुदेश महतो और झारखंड विकास मोर्चा के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी किंगमेकर बन सकते हैं।

शुरुवाती रुझानों में झारखण्ड मुक्ति मोर्चा ( झामुमो ) और कांग्रेस गठबंधन को 33, बीजेपी को 34, आजसू को 6, जेवीएम को 5 और निर्दलीय के खाते में 3 सीटें आ गयी हैं।

आइये जानते हैं कौन हैं आजसू के अध्यक्ष सुदेश महतो और झारखंड विकास मोर्चा के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी। जो बन सकते हैं झारखण्ड के किंगमेकर।

बता दें की साल 2000 में झारखंड को अस्तित्व में आने के बाद अब तक एक भी ऐसी सरकार नहीं बनी, जिसमें सुदेश महतो की भागीदारी न हो। सरकार चाहे किसी की बने, परन्तु सुदेश की पार्टी से कोई न कोई नेता मंत्रिमंडल में शामिल रहा। रघुबर दास की सरकार में भागीदार रहे सुदेश महतो ने इस बार अकेले चुनाव लड़ा।

वहीँ बात करें जेवीएम अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी की तो वो झारखंड के पहले मुख्यमंत्री बने, लेकिन मरांडी ने 2006 में भाजपा से किनारा कर झारखंड विकास मोर्चा का गठन किया था। 2019 के लोकसभा चुनाव में महागठबंधन को मिली करारी शिकस्त के बाद उन्होंने अपनी पार्टी को कांग्रेस गठबंधन से अलग कर लिया था। इस बार बाबूलाल मरांडी ने झारखण्ड में अकेले चुनाव लड़ा है।