हिन्दू शरणार्थियों को डरने की जरूरत नहीं, राशन कार्ड नहीं होगा तो भी मिलेगी नागरिकता: अमित शाह

LIKE फेसबुक पेज
home-minister-amit-shah-hindu-refujee-need-no-id-proof-for-india-citizenship

नई दिल्ली: गृह मंत्री अमित शाह ने हिन्दू एवं अन्य गैर मुस्लिम शरणार्थियों को सन्देश दिया है कि अगर उनके पास राशन कार्ड या कोई आईडी प्रूफ नहीं होगा तो भी भारत की नागरिकता मिलेगी। उन्होंने कहा कि राजनीतिक पार्टियां आपको डराती हैं कि राशन कार्ड नहीं होगा तो आपको भारत से भगा दिया जाएगा, आपको डरने की जरूरत नहीं है, हिन्दू, जैन, पारसी, ईसाई, सिख शरणार्थियों को भारत की नागरिकता लेने के लिए किसी भी राशन कार्ड या आईडी प्रूफ की जरूरत नहीं है। मुस्लिम घुसपैठियों को भारत की नागरिकता नहीं मिलेगी क्योंकि पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान इस्लामिक देश हैं और वहां पर मुस्लिमों के साथ कोई धार्मिक भेदभाव नहीं किया जाता।

गृह मंत्री अमित शाह ने 9 दिसंबर को लोकसभा में नागरिक संसोधन विधेयक पेश किया जो आधी रात बहुमत के साथ पास हो गया, बिल के समर्थन में 311 वोट पड़े जबकि विपक्ष में सिर्फ 80 वोट पड़े। इससे पहले कांग्रेस और भाजपा में जमकर हंगामा हुआ, कांग्रेस ने बिल को असंवैधानिक बताते हुए विरोध किया, कांग्रेस ने इस बिल को मुस्लिम विरोधी बताया।

कांग्रेस के आरोपों का जवाब देते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने कहा की कुछ लोग सिर्फ वोट बैंक के लिए घुसपैठियों को भारत में बसाना चाहते हैं, हम उनके मकसद को कामयाब नहीं होने देंगे। अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस ने ही धर्म के आधार पर भारत का बँटवारा किया था, पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान इस्लामिक देश बन गए, जबकि हिंदुस्तान सेक्युलर देश बना।

अमित शाह ने कहा कि भारत में मुसलामानों की आबादी लगातार बढ़ती जा रही है जबकि पाकिस्तान में हिन्दुओं एवं अन्य अल्पसंख्यकों की आबादी लगातार घटती जा रही है, उन्हें या तो मार दिया जाता है या उनका धर्मपरिवर्तन कर दिया जाता है, कुछ लोग भागकर भारत आ जाते हैं। भारत में मुस्लिमों के साथ कोई अन्याय नहीं किया जाता इसलिए उनकी आबादी लगातार बढ़ती जा रही है।

अमित शाह ने कहा कि यहाँ की राजनीतिक पार्टियां वोटबैंक के लिए घुसपैठियों का समर्थन कर रही हैं लेकिन हम उन्हें सफल नहीं होने देंगे, कुछ राजनीतिक पार्टियां रोहिंग्यों का भी समर्थन कर रही हैं लेकिन हम रोहिंग्यों को कभी स्वीकार नहीं करेंगे, भारत की सिर्फ उन्हें नागरिकता मिलेगी जिनके धर्म का दूसरे देशों में खतरा है। पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान इस्लामिक देश हैं इसलिए वहां मुस्लिमों को कोई खतरा नहीं है जबकि हिन्दुओं एवं अन्य अल्पसंख्यकों को वहां पर खतरा है इसलिए हम उन्हें स्वीकार करेंगे।नई दिल्ली: गृह मंत्री अमित शाह ने 9 दिसंबर को लोकसभा में नागरिक संसोधन विधेयक पेश किया जो आधी रात बहुमत के साथ पास हो गया, बिल के समर्थन में 311 वोट पड़े जबकि विपक्ष में सिर्फ 80 वोट पड़े। इससे पहले कांग्रेस और भाजपा में जमकर हंगामा हुआ, कांग्रेस ने बिल को असंवैधानिक बताते हुए विरोध किया, कांग्रेस ने इस बिल को मुस्लिम विरोधी बताया।

कांग्रेस के आरोपों का जवाब देते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने कहा की कुछ लोग सिर्फ वोट बैंक के लिए घुसपैठियों को भारत में बसाना चाहते हैं, हम उनके मकसद को कामयाब नहीं होने देंगे। अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस ने ही धर्म के आधार पर भारत का बँटवारा किया था, पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान इस्लामिक देश बन गए, जबकि हिंदुस्तान सेक्युलर देश बना।

अमित शाह ने कहा कि भारत में मुसलामानों की आबादी लगातार बढ़ती जा रही है जबकि पाकिस्तान में हिन्दुओं एवं अन्य अल्पसंख्यकों की आबादी लगातार घटती जा रही है, उन्हें या तो मार दिया जाता है या उनका धर्मपरिवर्तन कर दिया जाता है, कुछ लोग भागकर भारत आ जाते हैं। भारत में मुस्लिमों के साथ कोई अन्याय नहीं किया जाता इसलिए उनकी आबादी लगातार बढ़ती जा रही है।

अमित शाह ने कहा कि यहाँ की राजनीतिक पार्टियां वोटबैंक के लिए घुसपैठियों का समर्थन कर रही हैं लेकिन हम उन्हें सफल नहीं होने देंगे, कुछ राजनीतिक पार्टियां रोहिंग्यों का भी समर्थन कर रही हैं लेकिन हम रोहिंग्यों को कभी स्वीकार नहीं करेंगे, भारत की सिर्फ उन्हें नागरिकता मिलेगी जिनके धर्म का दूसरे देशों में खतरा है। पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान इस्लामिक देश हैं इसलिए वहां मुस्लिमों को कोई खतरा नहीं है जबकि हिन्दुओं एवं अन्य अल्पसंख्यकों को वहां पर खतरा है इसलिए हम उन्हें स्वीकार करेंगे।