CAA-NPR का विरोध करने वाले वही लोग है जो अयोध्या में राम मंदिर का विरोध कर रहे थे: गिरिराज सिंह

नई दिल्ली, 25 दिसंबर: मोदी सरकार ने जब जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाया तो सुरक्षा व्यवस्था को लेकर काफी सतर्क थी और पूरी तैयारी की थी ताकि कोई उत्पात न मचा सके, लम्बे अरसे ले चला रहा अयोध्या विवाद को सुप्रीम कोर्ट ने सलटा दिया। राम मंदिर के विरोधी भी उत्पात नहीं मचा पाए। क्योंकि फैसला सुप्रीम कोर्ट का था।

इसके बाद मोदी सरकार ने संसद में नागरिकता संसोधन बिल पेश किया और विपक्ष के काफी विरोध के बावजूद संसद के दोनों सदनों में पास करा लिया, राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद यह नागरिकता संसोधन कानून में बदल गया। लेकिन इस कानून के लागू होने के बाद देश के कई हिस्सों में बेहद हिंसक प्रदर्शन हुए? पुलिस पर पत्थरबाजी की गई? सार्वजानिक सम्पत्तियों को नुकसान पहुंचाया गया। क्योंकि मोदी सरकार ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी नहीं की थी।

नागरिकता संसोधन कानून का विरोध करने वालों को केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने अयोध्या राम मंदिर का विरोधी बताया है, गिरिराज ने कहा की, CAA-NPR का विरोध करने वाले वही लोग है जो अयोध्या में राम मंदिर का विरोध कर रहे थे, अपनी बात को मजबूती देने के लिए कुछ उदाहरण भी दिए, जिसमें पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, ओवैसी ब्रदर और टुकड़े-टुकड़े गैंग शामिल हैं।

CAA के खिलाफ हो रहे हिंसक प्रदर्शन को देखकर साफ़ अंदाजा लगाया जा रहा है की प्रदर्शनकारी CAA के नाम पर आर्टिकल 370 और राम मंदिर के खिलाफ भी अपनी भड़ास निकाल रहे हैं।

loading...