रामलला के जन्मस्थान पर ही बनेगा राम मंदिर, सुप्रीम कोर्ट ने दिया ऐतिहासिक फैसला

LIKE फेसबुक पेज

अयोध्या, 9 नवम्बर: सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को अयोध्‍या पर ऐतिहासिक फैसला देते हुए भव्‍य राम मंदिर निर्माण का रास्‍ता साफ कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को तीन माह में राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्‍ट बनाने का आदेश दिया है. साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने मुस्‍लिम पक्ष के लिए दूसरी जगह मस्‍जिद निर्माण के लिए 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया है।

बता दें कि – मुख्‍य न्‍यायाधीश रंजन गोगोई की अध्‍यक्षता वाली पांच जजों वाली संविधान पीठ ने शनिवार सुबह फैसला देते हुए कहा, हिन्‍दुओं की आस्‍था पर सवाल नहीं खड़े किए जा सकते. सबसे पहले सुप्रीम कोर्ट ने सुन्‍नी वक्‍फ बोर्ड की याचिका खारिज कर दी और साथ ही निर्मोही अखाड़े का एक सूट भी खारिज कर दिया।

सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्‍यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्‍व वाली संविधान पीठ ने कहा, आस्‍था में विश्‍वास होना चाहिए. सीजेआई ने कहा, इसमें कोई दो राय नहीं कि मीर बाकी ने वहां मस्‍जिद बनवाई थी लेकिन मस्जिद खाली जमीन पर नहीं बनी थी, मस्जिद के नीचे खुदाई में गैर इस्लामिक कलाकृतियां मिली हैं. सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन को रामलला को सौंपते हुए तीन महीनें के अंदर मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट के गठन के निर्देश दिए हैं।