सत्ता के लिए कांग्रेस जैसी बन जाएगी शिवसेना, छोड़ देगी हिंदुत्व, करेगी तुस्टीकरण

shivsena-will-change-like-congress-party-left-hindutva-way

मुंबई: सत्ता पाने के लिए शिवसेना इतनी उतावली है कि अपने सिद्धांतों से समझौता करने को तैयार है। शिवसेना को कट्टर हिंदुत्ववादी पार्टी माना जाता है, भाजपा से भी कट्टर हिंदूवादी शिवसेना है लेकिन अब शिवसेना खुद को पूरी तरह से बदलने के लिए तैयार है, कांग्रेस जिस रूप में चाहेगी शिवसेना उस रूप में ढलने को तैयार है, हिंदुत्व का रास्ता छोड्कर कांग्रेस तुस्टीकरण के रास्ते पर चलने को तैयार है और सरकार बनने के बाद शिवसेना सबसे पहले मुस्लिमों को नौकरियों में 5 फ़ीसदी का आरक्षण भी देगी।

शिवसेना कांग्रेस के इशारों पर नाचने लगी है, बिना कांग्रेस के समर्थन के शिवसेना सरकार बना ही नहीं सकती, कांग्रेस भी इस बात को भली भाँती समझती है इसलिए कांग्रेस चाहती है कि शिवसेना पहले कांग्रेस जैसी पार्टी बने और उसके बाद जरूरत के अनुसार शिवसेना का कांग्रेस में विलय करा लिया जाए, वैसे भी हिंदुत्व का रास्ता छोड़ने के बाद शिवसेना कांग्रेस जैसी ही हो जाएगी इसलिए कांग्रेस शिवसेना में अंतर ही नहीं रहेगा।

शिवसेना को पाकिस्तान के खिलाफ भी खूब जहर उगलते देखा गया है लेकिन ये सब सिर्फ वोट पाने के लिए था। अब शिवसेना पाकिस्तान से भी मुहब्बत करेगी और पहले की तरह पाकिस्तान के खिलाफ नफरत वाले बयान नहीं देगी। कहने का मतलब ये है कि सत्ता के लिए शिवसेना खुद को पूरी तरह से बदल देगी और अबसे कांग्रेस ही शिवसेना का माई बाप होगी।

loading...