ध्वस्त हुई दलित-मुस्लिम एकता: आकिल, जीशान, फैजान ने दलित युवक को घर से निकालकर पीटा

LIKE फेसबुक पेज

बिजनौर, 14 नवंबर: कुछ दलितों के ठेकेदारों ने कम जागरूप दलितों को पहले मूर्ख बनाया, फिर हिन्दुओं के खिलाफ भड़काया, उसके बाद नारा दिया दलित-मुस्लिम एकता जिंदाबाद। लेकिन ये दलित-मुस्लिम एकता जिंदाबाद का नारा ज्यादा दिन तक नहीं चल सका, ध्वस्त हो गया। इसका सबसे जीता-जागता उदहारण उत्तर प्रदेश के बिजनौर से आया है।

जानकारी के अनुसार, उत्तर प्रदेश के बिजनौर में दलित समुदाय के युवक अंकुल की बाइक शांतिदूत समुदाय के फरमान अली से टकरा गई उसके बाद कई शांतिदूतों ने मिलकर दलित युवक अंकुल की बेरहमी से पिटाई की।

बताया जा रहा है की शांतिदूत समुदाय के फरमान, मुस्तफा, कय्यूम, आकिल, जीशान, फैजान, सुहेल और शहनवाज सहित 10-15 शांतिदूतों ने मिलकर दलित युवक के घर पर किसी कुख्यात गुंडे की तरह हमला बोला दिया।

ये शांतिदूत खाली हाथ नहीं थे, बल्कि डंडों और पत्थरों से लैस थे। दलित युवक के घर पहले तो जमकर पत्थरबाजी की, उसके बाद दलित युवक अंकुल को उसके घर से बाहर निकाला और जमकर पिटाई कर दी। फिर भाग गए। शांतिदूतों के कातिलाना हमले से दलित युवक को गंभीर चोटें आयी है।