साधू-संतों ने उठाई मांग, कहा- CM योगी आदित्यनाथ को भी राम मंदिर ट्रस्ट में शामिल किया जाय

LIKE फेसबुक पेज

अयोध्या, 12 नवंबर: दशकों से चले आ रहे अयोध्या विवाद का आख़िरकार सुप्रीम कोर्ट ने निपटारा कर दिया है, साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है की तीन महीनें के भीतर एक ट्रस्ट बनाकर राम मंदिर निर्माण कार्य शुरू करे।

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद राम मंदिर के निर्माण के लिए केंद्र सरकार की ओर से गठित होने वाले ट्रस्ट में सीएम योगी आदित्यनाथ को शामिल करने की मांग संगम नगरी प्रयागराज से उठी है। साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने गोरक्षनाथ पीठ के पीठाधीश्वर महंत योगी आदित्यनाथ को ट्रस्ट में शामिल करने की मांग की है।

महंत नरेंद्र गिरी ने कहा है कि राम मंदिर आंदोलन में गोरक्षनाथ पीठ के महंत और सीएम योगी के गुरु ब्रह्मलीन अवैद्यनाथ महाराज का बहुत बड़ा योगदान रहा है. महंत नरेन्द्र गिरी ने योगी आदित्यनाथ को सीएम होने के नाते नहीं, बल्कि गोरक्षनाथ पीठ के पीठाधीश्वर की हैसियत से राम मंदिर के ट्रस्ट में शामिल किए जाने की मांग की है।

महंत नरेन्द्र गिरी ने राम मंदिर ट्रस्ट में सनानत धर्म के अलावा किसी दूसरे धर्मावलम्बी को सदस्य बनाए जाने पर भी कड़ा एतराज जताया है। उन्होंने कहा कि इस ट्रस्ट में मुस्लिम या किसी दूसरे धर्म के व्यक्ति को शामिल करना कतई उचित नहीं है. इससे भविष्य में फिर से विवाद की स्थिति आ सकती है।

फिलहाल ट्रस्ट बनाने और उसमें किसको शामिल करना है ये काम केंद्र सरकार का है, केंद्र सरकार जिसे चाहेगी उसे ट्रस्ट में शामिल किया जाएगा।