महाराष्ट्र में जीतकर भी हार गई BJP, हमेशा कुरेदता रहेगा शिवसेना का एन मौके पर दिया हुआ धोखा

LIKE फेसबुक पेज

महाराष्ट्र, 10 नवंबर: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव जीतकर भी भारतीय जनता पार्टी हार गई है, इसका फैसला चुनावी नतीजे आने के लगभग 15 दिन बाद ( रविवार 10 नवंबर ) को हुआ। महाराष्ट्र में सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद सरकार न बना पाने का मलाल बीजेपी को 5 साल तक तो रहेगा ही जबतक नई सरकार का कार्यकाल ख़त्म नहीं हो जाएगा। इससे भी ज्यादा भाजपा को शिवसेना का एन मौके पर दिया हुआ धोखा हमेशा कुरेदता रहेगा।

बता दें कि – 15 तक कशमकश चलने के बाद आख़िरकार शिवसेना ने भाजपा को समर्थन नहीं दिया इसके बाद राज्यपाल ने बीजेपी को सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया। लेकिन बीजेपी ने राज्यपाल से कहा की अब सरकार नहीं बनायेंगें क्यूंकि हमारे पास पर्याप्त संख्या बल नहीं है। अब गेंद शिवसेना के पाले में चली गई है। अनुमान लगाया जा रहा है की शिवसेना एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना सकती है।

उल्लेखनीय है की भाजपा और शिवसेना ने मिलकर महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव लड़ा था। दोनों पार्टियों ने मिलकर सरकार बनाने से ज्यादा बहुमत ( बीजेपी 105, शिवसेना 56 ) भी हासिल कर ली थी, लेकिन शिवसेना एन मौके पर अपने सीएम का मांग करने लगी। बीजेपी ने शिवसेना की इस मांग को नकार दिया। जिसकी वजह से शिवसेना ने भाजपा का साथ न देने का फैसला किया। वैसे शिवसेना ने ऐसा करने न सिर्फ बीजेपी को धोखा दिया है, बल्कि सत्ता की लालच में उन मतदाताओं को भी धोखा दिया है, जिन्होनें ये सोंचकर शिवसेना ( धनुष-बाण ) का बटन दबाया होगा की चलो हमारा वोट बीजेपी को जा रहा है।

महाराष्ट्र के जिन मतदाता ने “शिवसेना” पर विश्वास करके अपना अमूल्य वोट दिया होगा वो आज एनसीपी और कांग्रेस की गोद में बैठने की कगार पर हैं। शिवसेना द्वारा दिया गया यह धोखा बीजेपी हमेशा याद रहेगी। अब देखना यह दिलचस्प होगा की कौन सी पार्टी गठबंधन तोड़ने का एलान करती है।