अयोध्या राम मंदिर-बाबरी विवाद फैसला Live

LIKE फेसबुक पेज
supreme-court-verdict-on-ayodhya-ram-mandir-case-date-9-november-2019

नई दिल्ली, 9 नवंबर: अयोधा रामजन्मभूमि-बाबरी विवाद में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला पढ़ना शुरू कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई ने सबसे पहले शिया वक्फ बोर्ड की याचिका खारिज कर दी। मतलब शिया वक्फ बोर्ड का अब इस केस से कोई मतलब नहीं रह गया है।

इसके बाद चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने ASI रिपोर्ट को सही मानते हुए कहा कि – साफ है कि बाबरी मस्जिद खाली जमीन पर नहीं बनी थी. नीचे विशाल रचना थी, वह रचना इस्लामिक नहीं थी। वहां मिली कलाकृतियां भी इस्लामिक नहीं थी।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- विवादित ढांचे में पुरानी संरचना की चीज़ें इस्तेमाल हुईं। कसौटी का पत्थर, खंभा आदि देखा गया. ASI यह नहीं बता पाए कि मंदिर तोड़कर विवादित ढांचा बना था या नहीं। 12वीं सदी से 16वीं सदी पर वहां क्या हो रहा था, ये साबित नहीं।