फ़र्ज़ी फेसबुक अकाउंट बनाकर अशफाक ने की कमलेश तिवारी से दोस्ती, फिर उतार दिया मौत के घाट

LIKE फेसबुक पेज

लखनऊ, 20 अक्टूबर: लखनऊ में शुक्रवार को हुए कमलेश तिवारी हत्याकांड में कुछ न कुछ नया खुलासा हो रहा है, अब हत्यारों के बारे में एक और बड़ा खुलासा हुआ है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, कमलेश तिवारी की हत्या के आरोपी अशफाक ने साजिश के तहत सबसे पहले रोहित सोलंकी नाम से एक फेसबुक आईडी बनाई थी और इसी के जरिए उसने कमलेश तिवारी से फेसबुक पर दोस्ती बढ़ाई थी.

फर्जी फेसबुक आईडी के जरिए नजदीकी बनाकर कमलेश तिवारी से फोन पर बातचीत की और संगठन से जुड़ने की इच्छा जताई. जिसके बाद मिलने के लिए मीटिंग फिक्स की गई थी…मीटिंग के तहत अशफाक अपने साथी मोईनुद्दीन के साथ कमलेश के लखनऊ स्थित कार्यालय में आया, मिठाई के डिब्बे में हथियार भी भरकर लाया था और आधे घंटे तक कमलेश से बातचीत की, उसके बाद मौक़ा मिलते ही ह्त्या करके फरार हो गया.

बता दें कि – कमलेश तिवारी हत्याकांड के बाद उनके नौकर स्वराष्ट्रजीत सिंह ने बताया था कि हमलावरों ने आने से पहले 10 मिनट तक तिवारी जी से फोन पर बात की थी. उसके बाद दफ्तर पहुंचकर कमलेश तिवारी से उन्होंने करीब आधे घंटे बात की थी. सिगरेट लाने के बहातने नौकर को बाहर भेजकर हमलावरों ने वारदात को अंजाम दिया था…फ़िलहाल हत्यारों का सीसीटीवी फुटेज मिल गया है, पुलिस की टीमें जगह-जगह दबिश दे रही है.