2009 में 40 सीटें जीत मझधार में फंसे थे हुड्डा, तब गोपाल कांडा ने कांग्रेस को ऐसे ही दिया था समर्थन

हरियाणा, 26 अक्टूबर: हरियाणा विधानसभा चुनाव् के नतीजे आ गए हैं और किसी भी पार्टी की सरकार नहीं बन सकी, सभी पार्टियां बहुमत के आंकड़े से दूर हैं…ऐसे में हरियाणा लोकहित पार्टी के विधायक गोपाल कांडा ने भाजपा को समर्थन देकर सरकार बनवाने का एलान किया, कांडा के इस एलान के बाद ही हंगामा मच गया, जी हाँ.

दरअसल गोपाल कांडा पर एक एयरहोस्टेस और उसकी माँ को आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला चल रहा है, इसीलिए कांग्रेस सहित सभी पार्टियों ने बीजेपी की नैतिकता पर सवाल उठाना शुरू कर दिया। हालाँकि बीजेपी ने गोपाल कांडा से समर्थन लेने से इनकार कर दिया है.

लेकिन यह पहली बार नहीं है, जब गोपाल कांडा हरियाणा में सरकार बनाने के लिए ‘संकटमोचक’ की तरह उभरे हैं। करीब 10 साल पहले 2009 में उन्होंने कांग्रेस को भी इसी तरह समर्थन दिया था। उस वक्त भी आंकड़ा 40 और 31 सीट पर फंस गया था और गोपाल कांडा ने कांग्रेस के पक्ष में जाकर भूपेंद्र सिंह हुड्डा की सरकार बना दी थी। और कांडा मंत्री भी बना था.

बता दें कि हरियाणा विधानसभा में 90 सीटें हैं। इनमें से बीजेपी ने 40 सीटें जीतीं, जबकि कांग्रेस के खाते में 31 व जेजेपी के पास 10 सीटें हैं। इस तरह बीजेपी बहुमत से 6 सीटें दूर रह गईं। लेकिन अब जेजेपी के सतह मिलकर बीजेपी सरकार बनाएगी।