पुलिस में रहकर करता था क्रिमिनल का काम, विकास चौधरी में हत्या में आरोपी पुलिसकर्मी गिरफ्तार

LIKE फेसबुक पेज
vikas-chaudhary-murder-case-faridabad-police-head-constable-raju-arrested

फरीदाबाद: विकास चौधरी की ह्त्या की खबर से पूरा देश हिल गया था, हर कोई यही सोच रहा था कि इतनी आसानी से विकास चौधरी की ह्त्या कैसे ही जा सकती है, अब पता चला है कि उनकी हत्या में पलवल क्राइम ब्रांच का एक पुलिसकर्मी और विकास चौधरी का पूर्व PSO शामिल था और इन्हीं लोगों ने घर का भेद बताकर विकास चौधरी की हत्या में महत्वपूर्व भूमिका निभाई थी.

के.के राव पुलिस आयुक्त के निर्देश पर ए.सी.पी क्राईम अनिल यादव के द्वारा कौशल से की गई गहनता से पूछताछ में ये खुलासा हुआ है.

विकास चौधरी हत्या के षडयंत्र में 120 बी आई.पी.सी के तहत हवलदार राजू को गिरफतार कर पुलिस विभाग से बर्खास्त कर दिया गया है.

ACP क्राईम अनिल यादव ने खुलासा करते हुए बताया कि आरोपी राजू, कौशल, सचिन खेड़ी, अमित डागर नहारपुर रूपा, नीरज फरीदपुर और प्रदीप धारीवाल निवासी कच्चा बदरपुर के संपर्क में था।

आरोपी राजू कौशल की गिरफतारी से कुछ समय पहले तक कौशल के संपर्क में था और सचिन खेड़ी की गिरफ्तारी से पहले भी संपर्क में था। आरोपी राजू कौशल की गिरफ्तारी के पहले से लंबी छुट्टी पर चल रहा था।

आरोपी प्रदीप धारीवाल, विकास चौधरी के पास पीछले 5-6 साल से पी.एस.ओ की नौकरी करता था। जिसके पास विकास चौधरी की सभी जानकारियां होती थी।

प्रदीप धारीवाल आरोपी राजू का दोस्त है। आरोपी प्रदीप धारीवाल ने ही विकास चौधरी के मोबाईल नं0. एवं सभी गतिविधियों के बारे में राजू को भी बताया था। और यह भी बताया था कि इन लोगो से हम पैसा एंठ सकते है।

आरोपी राजू ने कौशल को विकास चौधरी, मनोज अग्रवाल एवं अन्य लोगो के कंटेक्ट नं0 उपलब्ध कराए थें। जिन लोगो से कौशल रंगदारी मांगता था। और सचिन खेड़ी को विकास चौधरी की सभी गतिविधियों के बारे में जानकारियां दी। और सचिन खेडी ने राजू से मिली जानकारी के आधार पर विकास चौधरी की हत्या से पहले उसकी गतिविधियों की रेकी की थी।

ए.सी.पी क्राईम ने बताया कि आरोपी राजू इसके बदले में कौशल गैंग से पैसे लेता था। जिसने अगस्त के पहले सप्ताह में कौशल की मां (गुरूग्राम) से 3 लाख रूपये भी लेकर आया था।

आरोपी राजू, आरोपी सचिन, अमित डागर एवं कौशल से जुडा हुआ था। अमित डागर व नीरज फरीदपुर, हत्या के केस में भौंडसी जेल में बंद है जो दोनो एक ही ब्लाक में बंद हैं। दोनो एक ही मोबाईल से कौशल से संपर्क करते थे।

क्राईम ब्रांच फरीदाबाद आरोपी अमित डागर को प्रोडेक्शन वारंट पर लेकर पहले ही पूछताछ कर चुकी है। आरोपी नीरज को भौंडसी जेल से प्रोडेक्शन वारंट पर लेकर 4 दिन का पुलिस रिमांड लेकर पूछताछ की जा रही है।

आरोपी प्रदीप धारीवाल को विकास चौधरी हत्या केस में अभी-अभी गिरफतार कर लिया गया है। जिससे पूछताछ की जाएगी।

प्रोडेक्शन वारंट पर लेकर की जा रही पूछताछ में आरोपी नीरज ने बताया कि कौशल और वह भौंडसी जेल के एक ही ब्लाक में बंद थें। जिससे उनकी दोस्ती हो गई थी। जोकि अमित डागर एवं सचिन के भी संपर्क में रहता था। आरोपी नीरज पुलिस रिमांड पर है। आरोपी राजू को कोर्ट में पेश कर रिमांड लिया जा गया है।