भ्रस्टाचार पर मोदी सरकार का प्रहार, भ्रस्टाचार के आरोप में फंसे अधिकारियों की हुई छुट्टी

LIKE फेसबुक पेज

नई दिल्ली, 28 सितम्बर: भ्रस्टाचार पर मोदी सरकार ने कड़ा प्रहार किया है, भ्रस्टाचार के आरोप में फंसे 15 टैक्स अधिकारियों को समय से पहले जबरन सेवानिवृत्त कर दिया गया है.

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने केंद्रीय सिविल सेवा (पेंशन) नियम 1972 के नियम 56 (J) के तहत भ्रष्टाचार और दूसरे आरोपों वाले 15 वरिष्ठ कर अधिकारियों को सेवानिवृत्ति पर भेज दिया.

बता दें कि – साल 2019 में जून के बाद यह चौथा मौका है जब सरकार ने भ्रष्ट और अवैध गतिविधियों के आरोपों वाले टैक्स ऑफिसर्स को नौकरी से बाहर किया है. इससे पहले के तीन दौर में केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के 12 अधिकारियों सहित कुल 49 अधिकारियों को बाहर किया गया. मालूम हो की- पीएम मोदी ने पहले ही कह दिया था न खाऊंगा, न खाने दूंगा।