पंजाब: समय रहते जागी होती कैप्टन अमरिंदर सरकार तो आज जिन्दा होता 2 साल का फतेहवीर

LIKE फेसबुक पेज

जालंधर, 11 जून: पंजाब के संगरूर जिला के भगवानपुरा गांव में बोरवेल में फंसे दो साल के फतेहवीर सिंह को मंगलवार सुबह 5:30 बजे यानी 110 घंटे बाद निकाल लिया गया। लेकिन फतेहवीर अस्पताल में फतेहवीर की मौत हो गयी…फतेहवीर की मौत से कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार की नाकामयाबियां उजागर हो गयी हैं.

बता दें कि फतहवीर सिंह बृहस्पतिवार दोपहर करीब चार बजे अपने घर के नजदीक खेलते समय बोरवेल में गिर गया। बोरवेल कपड़े से ढका हुआ था और बच्चे ने दुर्घटनावश उसपर कदम रख दिया। उसकी मां ने उसे बाहर निकालने की कोशिश की, लेकिन वह नाकाम रहीं।

घटना के पांच दिन बाद राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को बच्चे की याद आयी है। उन्होंने बच्चे सही सलामत होने की प्रार्थना की और अधिकारियों को 24 घंटे में सूबे के सभी बोरवेल बंद करने के आदेश दिए हैं।

कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार अगर समय रहते जागी होती और तुरंत ही बोरबेल को बंद करनें का आदेश दे देती तो शायद आज फतेहवीर हम सब के बीच में होता।।लेकिन अब नहीं रहा.