कभी हिन्दू आतंकवाद कहने वाले दिग्विजय अब खुद को सबसे बड़ा हिंदू साबित करने में जुट गए हैं

LIKE फेसबुक पेज
digvijay-is-now-ready-to-prove-himself-the-biggest-hindu

मध्यप्रदेश, 20 अप्रैल: भोपाल लोकसभा सीट से बीजेपी ने साध्वी प्रज्ञा को किसलिए उम्मीदवार बनाया उसका असर अब दिखने लगा है, जी हाँ..!, कभी हिन्दू आतंकवाद शब्द का जन्म देने वाले कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह खुद को अब सबसे बड़ा हिन्दू साबित करने में जुट गए हैं, क्योंकि उनके सामने चुनौती है एक भगवाधारी हिन्दू यानी साध्वी प्रज्ञा कि.

कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह ने एक के बाद एक कई ट्वीट करते हुए कहा कि मैं हिंदू धर्म को मानता हूँ, जो हज़ारों सालों से दुनिया को जीने की राह सिखाता आया है। मैं अपने धर्म को हिंदुत्व के हवाले कभी नहीं करूँगा, जो केवल और केवल राजनीतिक सत्ता पाने के लिए संघ का षड्यन्त्र है। मुझे अपने सनातन हिंदू धर्म पर गर्व है जो वसुदैव क़ुटुम्बकम की बात कहता है।

दिग्विजय ने अगले ट्वीट में लिखा – संघ का हिंदुत्व जोड़ता नहीं, तोड़ता है। अपने धर्म का राजनैतिक अपहरण मैं कभी नहीं होने दूँगा।  हमारे लिए हिंदू धर्म आस्था का विषय है, भगवान से हमारा निजी रिश्ता है।

इसके बाद दिग्विजय ने तीसरे ट्वीट में लिखा मेरा हिंदू धर्म मेरी आस्था है। इसीलिए मैंने अपनी नर्मदा परिक्रमा का प्रचार नहीं किया, राघोगढ़ मंदिर की परम्पराओं का कभी प्रचार नहीं किया, दशकों गोवर्धन परिक्रमा और पंढरपुर दर्शन का प्रचार नहीं किया। भाजपा के लोग कब से मेरे और ईश्वर के बीच आ गए ,सर्टिफ़िकेट देने वाले एजेंट बन गए?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज जब अपनी जमीं खिसकने का डर सताने लगा है तो खुद को हिन्दू साबित करने में जुटे दिग्विजय सिंह ने समझौता बम ब्लास्ट और मालेगांव ब्लास्ट के बाद डंके की चोट पर हिन्दू आतंकवाद शब्द का जन्म दिया था.