जिसका शक था वही हुआ, कांग्रेस ने शुरू की पुलवामा हमले पर राजनीति, RS ने मोदी के खिलाफ उगला जहर

LIKE फेसबुक पेज
congress-randeep-soorjewala-target-narendra-modi-on-pulwama-attack-news

नई दिल्ली: पहले ही शक जताया जा रहा था कि कांग्रेस पार्टी पुलवामा हमले पर राजनीति करेगी और इसका फायदा उठाएगी, शक के अनुसार पाकिस्तान ने पुलवामा हमला मोदी सरकार के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर पैदा करने के लिए करवाया है ताकि कांग्रेस मोदी के खिलाफ इसे मुद्दा बनाए और मोदी के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर पैदा हो.

कांग्रेस ने यह काम शुरू कर दिया है, वैसे कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने हमले के तुरंत बाद मोदी सरकार के खिलाफ जहर उगलना शुरू कर दिया था लेकिन जब कांग्रेस की आलोचना होने लगी तो उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने प्रेस कांफ्रेंस की और सेना के साथ खड़े रहने का भरोसा दिया.

अब कांग्रेस ने फिर से गन्दी राजनीति शुरू कर दी. रणदीप सुरजेवाला ने आज फिर से प्रेस कांफ्रेंस की और मोदी के खिलाफ खूब जहर उगला. उन्होंने कहा कि हमले के बाद भी मोदी का चाय-नास्ता जारी है, वह अपनी रैलियां कर रहे हैं, मोदी-मोदी के नारे लगवा रहे हैं.

रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि मोदी हमले के बाद भी नौका विहार करते रहे, हमले के चार घंटे तक खामोश रहे, पुलवामा हमले के बाद भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रीय शोक की घोषणा नहीं की, ऐसा इसलिए क्योंकि वह सरकारी खर्च पर सरकारी सभाएं करते रहे.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लगाकर सभी राज्यों में विकास कार्यों का उद्घाटन करते रहे हैं, उत्तर प्रदेश, बिहार, सहित कई राज्यों में उन्होंने दौरा किया और हजारों करोड़ रुपये के विकास कार्यों की शुरुआत की लेकिन कांग्रेस को यह बात हजम नहीं हो रही है. कांग्रेस चाहती है कि मोदी सरकार सभी कामकाज रोक दें, पाकिस्तान भी यही चाहता है कि भारत सरकार सभी कामकाज रोक दे और भारत का विकास ठप्प हो जाए लेकिन मोदी सरकार ने कहा था कि पाकिस्तान हमारे देश को अस्थिर करना चाहता है लेकिन हम देश का विकास जारी रखेंगे और शहीदों का सपना पूरा करके रहेंगे.

एक चौंकाने वाली बात ये भी है कि सुरजेवाला ने इस हमले लिए मोदी सरकार को ही जिम्मेदार ठहराने का प्रयास किया है और पाकिस्तान भी यही बोल रहा है, पाकिस्तान के सभी टीवी चैनल बोल रहे हैं कि हमला मोदी सरकार ने ही करवाया है ताकि 2019 में वोट मिल सके, कांग्रेस भी यही बोल रही है, दोनों के राग एक हैं और इसका शक पहले से ही किया जा रहा था कि कांग्रेस यही पॉलिटिक्स खेलेगी.