हजरत का नाम मेरे मुंह से सुनना चाहते हो तो कभी आप भी हनुमान चालीसा बोल के दिखाओ: स्मृति ईरानी

LIKE फेसबुक पेज
union-minister-smriti-irani-speak-in-loksabha

नई दिल्ली, 27 दिसंबर: लोकसभा में आज तीन तलाक बिल भारी बहुमत से पास हो गया, लेकिन सदन की कार्यवाही के दौरान गर्मागर्म बहस देखने को मिली, बता दें कि संसद में बोलते हुए केन्द्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने आक्रामक रुख अपना लिया और कांग्रेस पर ताबड़तोड़ हमले करने लगी.

कांग्रेस की आलोचना करते हुए स्मृति ईरानी ने इस्लामिक इतिहास का हवाला दिया और कहा कि दूसरे खलीफा के सामने पहली बार ऐसा केस आया जब एक व्यक्ति से पूछा गया कि क्या आपने ऐसे तलाक दिया है तो उसने स्वीकार किया और उसे 40 कोड़ों की सजा सुनाई गई. इस बीच उनके सामने से आवाज आई और उनसे खलीफा का नाम लेने की मांग की गई.

इसके बाद स्मृति ईरानी के तेवर बदल गए और उन्होंने कहा, हजरत साहब का नाम मुझसे सुनना चाहते हैं तो मैं भी हनुमान चालीसा आपके मुंह से सुनना चाहूंगी, कभी हिम्मत हो तो सुना दीजिएगा.

इसके बाद स्मृति ईरानी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा – जब कांग्रेस के पास मौका था तो वो महिलाएं जो प्रताड़ित की जा रही थीं तो ये लोग उनके पक्ष में क्यों नहीं खड़े हुए. 477 बहनें ऐसी है जो सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी ट्रिपल तलाक की शिकार हुई हैं. यदि किसी बहन के साथ ऐसा हो तो हमारी जिम्मेदारी है उसे न्याय दिलाना.

LEAVE A REPLY