बहुत दुखी है हरिजन परिवार, विशेष धर्म के लोगों ने किया जीना हराम, चौथी बार किया हमला, FIR दर्ज

LIKE फेसबुक पेज

फरीदाबाद: NIT-4, आदर्श कॉलोनी, एसजीएम नगर थाना क्षेत्र में रहने वाला एक हरिजन परिवार बहुत परेशान और डरा हुआ है, परिवार पर चौथी बार जानलेवा हमला हुआ है, पीड़ित पति-पत्नी बीके हॉस्पिटल में भर्ती हैं, दोनों के सर में गहरी छोटे हैं. इस मामले में एसजीएम नगर थाने में FIR नंबर 534 दर्ज है. पीड़ित परिवार आरोपियों के खिलाफ SC/ST एक्ट के तहत कार्यवाही करवाना चाहता है क्योंकि वह खुद को हरिजन बता रहा है, पीड़ित परिवार ने बताया कि आरोपी लोग उन्हने जाती सूचक शब्द बोलकर अपमानित करते रहते हैं, गालियाँ देते हैं लेकिन पुलिस ने SC/ST एक्ट नहीं लगाया, विल्कुल हल्की धाराएं लगाकर मुकदमा दर्ज कर लिया, आरोपी खुलेआम घूम रहे हैं, पुलिस ने किसी को गिरफ्तार नहीं किया है.

क्या लिखा है FIR में

घायल महिला रघुबीरी के मुताबिक़ – मैं पत्नी रामलाल निवासी मकान नंबर आर-126 आदर्श कॉलोनी, एसजीएम नगर फरीदाबाद की निवासी हूँ, मेरे तीन लड़की एवं दो लड़के हैं, हमारा पडोसी आमिर पुत्र चाँद दिनांक 14.11.2018 को मेरे घर में घुस गया था जिस सम्बन्ध में हमारा दिनांक 15.11.2018 को थाना में बैठकर समझौता हो गया था.

इन्हीं बातों को लेकर उसी दिन रात 10 बजे मंजूर पुत्र इलियास, फिरोज पुत्र मंजूर, आमिर पुत्र मंजूर, अफ़साना पत्नी मंजूर, अनीशा मंजूर की बहन, वरीशा पत्नी दमू, फैजल पुत्र कमालुद्दीन, राजू दाउद वा चाँद के दो लड़के आदिल एवं सलमान हमें गाली गलौज करने लगे और इन सभी ने मिलकर हमारे घर में ईंट पत्थर बरसाए जो कि एक पत्थर गीता पत्नी हरी सिंह के सर में लगा, गीता को मेरा लड़का कृष्णा एवं जीतेन्द्र हॉस्पिटल लेकर आये.

गीता को हॉस्पिटल छोड़कर मेरा लड़का कृष्णा वापस अपने घर लौट रहा था, वह हनुमान मंदिर के पास पहुंचा था तो उसी वक्त आमीर, आदिल, जावेद, फिरोज ने उसे रोक लिया और उसके साथ मारपीट करने लगे, हमारी पडोसी सविता ने हमें बताया कि उपरोक्त लोग हमारे लड़के को हनुमान मंदिर के पास पकड़कर मारपीट कर रहे हैं, इसके बाद मैं, मेरे पति रामलाल, मेरी लड़की संगीता एवं मंजू, मेरा छोटा लड़का सन्नी भागकर हनुमान मंदिर के पास पहुंचे तो अपने लड़के को छुडाने लगे तो पीछे से मंजूर, अफ़साना, अनीशा, वरीशा, फैजल, राजू, दाऊद व सलमान अपने हाथों में लाठी-डंडा लेकर आये और आते ही फिरोज ने अपने हाथ में लिया हुआ डंडा मेरे सर में मारा तथा एक डंडा वरीशा ने बाएँ हाथ में मारा, उनके साथ आये उपरोक्त लोगों ने भी लोहे के एंगल ने मुझे और मेरे परिवार वालों को मारा. मुझे एवं मेरे पति रामलाल को हमारे पड़ोसियों ने बीके हॉस्पिटल में दाखिल करवा दिया.

पीड़ितों ने बताया कि हमारा यहाँ पर इलाज चल रहा है, आरोपियों ने हमें जान से मारने की धमकी दी है, उन्होंने हमें बेवजह रास्ता रोककर मारा-पीटा है इसलिए उनपर सख्त कार्यवाही की जाए.

LEAVE A REPLY