राफेल डील: अंबानी को हमने चुना, सरकार ने नहीं, राहुल गाँधी के सभी आरोप बेबुनियाद, दसॉल्ट CEO

LIKE फेसबुक पेज
dassault-ceo-eric-trappier-exposed-congres-party-rahul-gandhi-for-rafale-deal

नई दिल्ली, 13 नवम्बर: राफेल डील को लेकर देश में विपक्ष और सरकार के बीच मचे सियासी घमासान में राफेल को बनाने वाली कंपनी दसॉल्ट के सीईओ एरिक ट्रैपियर ने राहुल गांधी और कांग्रेस के सभी आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए खारिज कर दिया है.

जानकारी के अनुसार न्यूज़ एजेंसी ANI को दिए गए एक इंटरव्यू में एरिक ट्रैपियर ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने दसॉल्ट-रिलायंस जॉइंट वेंचर के ऑफसेट कॉन्ट्रैक्ट को लेकर झूठ बोला था, लेकिन मैं झूठ नहीं बोलता, मैं पहले जो भी कहा था और जो अब कह रहा हूं वही सच और सही है.

एरिक ट्रैपियर ने कहा – राफ़ेल पहले के मुक़ाबले 9% सस्ते बेचे, अंबानी को हमने चुना सरकार ने नहीं, कोई अनुचित फ़ायदा नहीं पहुँचाया, रिलायंस के अलावा 30 और कंपनियाँ हैं इसमें हम किसी पार्टी के लिए व्यक्तिगत काम नहीं करते, इसलिए कांग्रेस के सभी आरोप बेबुनियाद हैं.

बता दें कि राहुल गांधी ने दसॉल्ट सीईओ पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए कहा था, दसॉल्ट ने अनिल अंबानी की कंपनी को 284 करोड़ रुपये दिए और अंबानी ने उसी पैसे से जमीन खरीदी, दसॉल्ट केवल मोदी को बचा रही है जांच होगी तो पीएम नहीं टिक पाएंगे. लेकिन आज जिस तरह से दसॉल्ट के सीईओ ने कांग्रेस का पर्दाफाश किया है, उससे लगता है कांग्रेस कहीं मुंह दिखाने के लिए नहीं बची है.

LEAVE A REPLY