MP में सरकार बनाने के लिए कांग्रेस ने चली बड़ी चाल, कंप्यूटर बाबा ने अचानक दिया इस्तीफा, पढ़ें

मध्य प्रदेश, 2 अक्टूबर: मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार में राज्यमंत्री कंप्यूटर बाबा के अचानक इस्तीफे से बहुत बड़ी साजिश की बू आ रही है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कंप्यूटर बाबा कल कांग्रेसी समर्थक आचार्य प्रमोद कृष्णम से मुलाकात करने पहुंचे थे, कंप्यूटर बाबा और प्रमोद कृष्णम की मुलाकात करीब दोपहर 3 बजे हुयी, जबकि कंप्यूटर बाबा ने उसके कुछ घंटों बाद मंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया.

बता दें कि मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव नजदीक है, ऐसे में भाजपा और कांग्रेस दोनों धर्म का कार्ड खेलकर चुनावी वादी कर रही हैं, इस वादे में भाजपा कांग्रेस से 20 साबित हो रही थी, क्योंकि सीएम शिवराज ने पांच संतों को पहले से ही मंत्री बनाया है जिसका सीधा लाभ भाजपा को होता, कांग्रेस ने भाजपा की इस रणनीति को तोड़ने के लिए, प्रमोद कृष्णम का प्रयोग किया जिसमें वो सफल हो गयी, जिसके बाद कंप्यूटर बाबा ने शिवराज को धर्म विरोधी बताते हुए इस्तीफ़ा दे दिया.

आचार्य प्रमोद कृष्णम ने एक ट्वीट को रीट्वीट किया है, जिसमें साफ़-साफ़ लिखा गया है की, कल्कि पीठाधीश्वर आचार्य प्रमोद कृष्णम से भेंट करने पहुँचे मध्य प्रदेश सरकार के मंत्री कम्प्यूटर बाबा, नया गुल खिलायेगी ये मुलाक़ात. सच में आख़िरकार इस मुलाक़ात ने नया गुल खिला ही दिया.

इस के बाद प्रमोद कृष्णम ने ट्वीट में लिखा कि, शिवराज को धर्म द्रोही बताते हुए मंत्री पद से इस्तीफ़ा देकर, कम्प्यूटर बाबा ने ये सिद्ध कर दिया है, कि अच्छा और सच्चा संत, भाजपा के साथ नहीं रह सकता.

आपको बता दें कि प्रमोद कृष्णम है तो हिन्दू संत लेकिन वो बहुत बड़े नज्म और मुशायरे बाज हैं, इसके आलावा उन्होंने लखनऊ में विवेक तिवारी हत्याकांड को मजहबी आग में झोंकने का प्रयास करने वाले अरविन्द केजरीवाल का समर्थन भी किया था.