शर्मनाक, देश धारा 370 पर फैसला चाहता है, कोर्ट धारा 377 पर फ़ैसला दे रही है: सुरेश चव्हाणके

suresh-chavhanke-told-country-wants-verdict-Article-370-court-ruling-Section-377

नई दिल्ली, 6 सितम्बर: सुदर्शन न्यूज़ के प्रधान सम्पादक सुरेश चव्हाणके ने धारा 377 के अंतर्गत समलैंगिकता पर दिए गए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर आपत्ति जताई है.

सुरेश चव्हाणके ने कहा – देश के सर्वोच्च न्यायालय पर आज मुझे शर्म है, हिस्दुस्तान धारा 370 पर फैसला फ़ैसला चाहता ह., लेकिन कोर्ट धारा 377 पर फ़ैसला दे रही है. जो काफी शर्मनाक है. क्या यही प्राथमिकता है देश के सर्वोच्च न्यायालय की, या दम नही है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने आज धारा 377 के अंतर्गत आने वाले समलैंगिकता अपराध को ख़त्म कर दिया है, जिसके बाद महिलाऐं दूसरी महिलाओं से शादी और पुरुष दूसरे पुरुष से शादी एवं शारीरिक सम्बन्ध बना सकते हैं. पहले ऐसा करना अपराध था लेकिन आप सुप्रीम कोर्ट ने इस अपराध को ख़त्म कर दिया. जबकि धारा 370 अभी सुप्रीम कोर्ट में पेंडिंग पड़ी है.