जब तक पति-पत्नी में से कोई सुसाइड ना कर ले, शादी के बाद अवैध रिश्ता नहीं माना जाएगा अपराध

supreme-court-strikes-down-adultery-law-in-india-news

नई दिल्ली, 27 सितम्बर: सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाते हुए शादी के बाद अवैध रिश्तों को अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया है, ये अपराध तभी होगा जब पति या पत्नी में से कोई एक सुसाइड कर ले और अपनी जान देकर अवैध रिश्ते को अपराध साबित कर दे.

इससे पहले अवैध रिश्ते को धारा 497 के तहत अपराध माना जाता था लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट का मानना है कि शादी के बाद भी पुरुष या स्त्री अपनी मर्जी से गैर मर्द या स्त्री से रिश्ते बना सकते हैं, पुरुष का स्त्री या स्त्री का पुरुष पर मालिकाना हक नहीं हो सकता. जब तक दोनों में से कोई एक सुसाइड ना कर ले इसे अपराध नहीं मना जाएगा, सुसाइड करने के बाद इसे धारा 306 के तहत अपराध माना जाएगा.

यह फैसला तीन न्यायाधीशों की बेंच ने सुनाया जिसमें – प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, रोहिंटन नरीमन, ऐएम खंवालिकर, डीवाई चंद्रचूड और इंदु मल्होत्रा शामिल थीं.