अब पुरुष-पुरुष और महिला-महिला में हो सकेगी शादी, सुप्रीम कोर्ट ने ख़त्म किया समलैंगिंक अपराध

supreme-court-remove-dhara-377-homosexuality-no-crime-india

नई दिल्ली, 6 सितम्बर: सुप्रीम कोर्ट ने आज धारा 377 के अंतर्गत आने वाले समलैंगिकता अपराध को ख़त्म कर दिया है जिसके बाद महिलाऐं दूसरी महिलाओं से शादी और पुरुष दूसरे पुरुष से शादी एवं शारीरिक सम्बन्ध बना सकते हैं. पहले ऐसा करना अपराध था लेकिन आप सुप्रीम कोर्ट ने इस अपराध को ख़त्म कर दिया.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले का बाद खासकर समलैंगिंक समाज के लोग खुश हैं, उनका कहना है कि अब हमें भी समाज में एक मान सम्मान मिलेगा और एक दूसरे के साथ रिश्ते बना सकेंगे.

अगर भारत के लोगों ने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को मान लिया तो जल्द ही आपको ऐसी शादियों में दावत खाने को मिल सकता है जिसमें पुरुष अपने पुरुष बॉयफ्रेंड से और महिला अपनी महिला गर्लफ्रेंड से शादी करेंगी और ढोल नगाड़ा बजाकर लोग शादियों में डांस करेंगे.

LEAVE A REPLY