2004 में प्याज-टमाटर के लिए अटलजी को नौकरी से निकालने वाले भारतीय आज हो रहे हैं दुखी, पढ़ें

LIKE फेसबुक पेज
last-rite-of-bharat-ratn-atal-bihari-vajpayee-india-sad-news

नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपयी का निधन 16 अगस्त 2018 को दिल्ली के AIIMS में शाम 5.05 बजे हो गया था. आज उनका अंतिम संस्कार किया जा रहा है. आज पूरा देश दुखी दिख रहा है. आज पूरा देश पछता रहा है कि हमने एक महान नेता खो दिया लेकिन इन्हीं भारतीयों ने 2004 में सिर्फ प्याज टमाटर के लिए अटल जी को प्रधानमंत्री पद की नौकरी से हटाकर मनमोहन सिंह को नौकरी पर रख दिया था.

उस वक्त देशवासियों को यह समझ नहीं थी कि पाकिस्तान से कारगिल युद्ध की वजह से वहां से प्याज आनी बंद हो गयी थी जिसकी वजह से भारत में प्याज मंहगी हो गयी थी. उस समय प्याज 60-80 रूपए प्रति किलो बिक रही थी. इसके अलावा पोखरण में परमाणु विस्फोट से विश्व ने भारत पर आर्थिक प्रतिबन्ध लगा दिया था जिसकी वजह से मंहगाई बढ़ गयी थी. आज परमाणु शक्ति होने पर समस्त भरतीयों को गर्व होता है लेकिन उस वक्त टमाटर-प्याज के लिए अटल जी को नौकरी से हटा दिया था.

उस वक्त चुनाव नजदीक थे, कांग्रेस ने इसे मुद्दा बनाया और देशवासियों ने भी उनकी बातों में आकर अटल जी को नौकरी से हटा दिया. उसके बाद 10 साल तक कांग्रेस की सरकार रही और उस दौरान क्या हुआ इसे पूरी दुनिया जानती है.

आज भारतीयों को बहुत दुःख है, जब तक लोग जिन्दा रहते हैं हमें उनकी क़द्र नहीं होती लेकिन जब लोग हमें छोड़कर चले जाते हैं तो उनकी क़द्र होती है. आज देशवासी पछता रहे हैं कि हमने अटल जी को 2004 में नौकरी से क्यों निकाला, अगर अटल जी 5 साल और प्रधानमंत्री बने रहते तो देश बहुत आगे जा चुका होता.

चलो कोई बात नहीं, अटल जी के निधन से देशवासियों को कम से कम इस बात का अहसास जरूर हो गया कि जल्दबाजी में आकर किसी को नौकरी से नहीं निकालना चाहिए और खासकर जब प्रधानमंत्री का सवाल हो. 2019 चुनाव में देखा जाएगा कि देश के लोग 2004 की तरह जल्दबाजी में फैसला लेकर मोदी को नौकरी से निकालते हैं या अटल जी की घटना से सीख लेकर मोदी को दोबारा मौका देते हैं.

LEAVE A REPLY