रुखसार के लिए धर्म बदल लेता संजय तो दर्दनाक मौत ना मारता सलीम, माँ ने बताई हत्या की असली कहानी

faridabad-nehru-colony-sanjay-murder-case-real-story-by-mother

फरीदाबाद, 27 अगस्त: नेहरु कॉलोनी में हुए संजय हत्याकांड की असली कहानी सामने आ गयी है. यह कहानी मृतक संजय की माँ और रिश्तेदारों ने बतायी है.

माँ ने बताया कि आरोपी संजय को इस्लाम में धर्मपरिवर्तन कराना चाहते थे, संजय ने इससे साफ़ साफ़ इनकार कर दिया था जिसकी वजह से आरोपी उससे नाराज हो गए और उसे धोखे से ले जाकर क़त्ल कर दिया गया.

मृतक संजय की माँ ने बताया कि एक साल पहले रुखसार की शादी किसी और से होने वाली थी तो उसके चार दिन पहले दोनों लोग गायब हो गए, रुखसार अपनी मर्जी से संजय के साथ भागी थी, दोनों ने राजस्थान जाकर कोर्ट मैरिज की और कई महीनें राजस्थान में ही रहे.

इसके बाद रुखसार के घर वालों से बातचीत हुई तो उसके परिवार वालों ने भी शादी को स्वीकार कर लिया लेकिन उनकी नीयत में कुछ और था. दोनों लोग राजस्थान से फरीदाबाद आये और लड़की के भाई सलीम से रेलवे स्टेशन पर मिले और फिर वापस चले गए.

उसके कुछ दिनों बाद संजय और रुखसार वापस फरीदाबाद आये. रुखसार को एक महीनें के लिए माँ के पास छोड़ दिया. पहले माँ भी दोनों की शादी पसंद नहीं करती थी. लड़की ने भी उनके यहाँ रहना स्वीकार नहीं किया और अपने घर चली गयी.

उस वक्त रुखसार के पेट में संजय का बच्चा था जिसे उन्होंने गिरवा दिया. कथित तौर पर उन्होंने संजय और रुखसार का तलाक भी करवा दिया जबकि उस वक्त संजय राजस्थान में ही था, जब संजय ने तलाक की खबर सुनी तो वापस आया और सलीम से मिला. सलीम ने बताया कि अगर रुखसार के साथ रहना चाहता है तो उसे इस्लाम स्वीकार करना पड़ेगा. संजय ने यह बात अपनी माँ को बतायी तो वह हैरान रह गयीं और उसे समझाया कि हमारा धर्म हिन्दू है, अगर हम मुस्लिम बन जाएंगे तो हिन्दू धर्म ख़त्म हो जाएगा. इसके बाद संजय ने इस्लाम अपनाने से इनकार कर दिया और वापस राजस्थान चला गया.

उसके बाद संजय 15 अगस्त को फरीदाबाद वापस आया. सलीम को जैसे ही यह बात पता चली वह संजय के घर आया और उसे 16 अगस्त को अपने साथ घुमाने की बात बोलकर ले गया. उसी दिन संजय की ह्त्या हुई थी.

जब माँ ने देखा कि उसका बेटा वापस नहीं आया तो वह रुखसार के घर गयी और उसके पिता से संजय के बारे में पूछा. फजरू कुछ नहीं बोला तो माँ ने सलीम से पूछा कि तेरे साथ मेरा बेटा गया था, उसे कहाँ छोड़ दिया. उसके दो तीन दिनों बाद भी संजय नहीं आया तो माँ परेशान हो गयी और पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवाया. 21 अगस्त को संजय की डेड बोबी पहाड़ी से बरामद की गयी. देखें VIDEO.