पूर्व प्रधान वकील एलएन पाराशर ने जंतर मंतर पर उठाई फरीदाबाद के भ्रष्ट जजों के खिलाफ आवाज

advocate-ln-parashar-raise-issue-of-faridabad-corrupt-judges-at-jantar-mantar

फरीदाबाद: फरीदाबाद डिस्ट्रिक्ट और सेशन कोर्ट में भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे फरीदाबाद जिला बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान और न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के संयोजक वकील एलएन पाराशर ने आज कुछ भ्रष्ट जजों के खिलाफ दिल्ली के जंतर मंतर पर प्रदर्शन किया और उन्हें हटाने के लिए राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश को ज्ञापन दिया. उन्हें फरीदाबाद कोर्ट के सैकड़ों वकीलों का समर्थन मिला.

इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए अधिवक्ता एल एन पाराशर ने कहा कि न्यायालयों में भ्रष्टाचार कोई नई बात नहीं है। मुवक्किल, वकील यहाँ तक कि न्यायाधीश भी इससे अछूते नहीं हैं। फरीदाबाद न्यायालयों में भ्रष्टाचार से पहले ही लोगों का बुरा हाल था पर अब कुछ वकीलों जो कि न्यायाधीशों की दलाली करते हैं व कुछ न्यायाधीश भी भ्रष्टाचार में संलिप्त हैं, के कारण स्थिति बहुत बुरी होती जा रही है, जिसका कारण फरीदाबाद सेशन जज दीपक गुप्ता का संरक्षण है।

उन्होंने बताया कि चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों के साथ बंधुआ मजदूरों जैसा व्यवहार किया जाता है जिसमें सेशन जज स्वयं भी शामिल है। गरीबों को न्याय मिलना दुभर होता जा रहा है। लीगल एड नाम के लिए रह गई है। भारतीय संविधान के आर्टिकल 398-ए में कसाब जैसे देश को तबाह करने वाले आतंकवादी को तो मनचाहा वकील मुहैया कराया जाता है पर एक गरीब को लीगल एड नहीं मिलती।

अधिवक्ता मनोज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद न्यायालयों के जजों द्वारा युवा अधिवक्ताओं के साथ दुर्व्यवहार करना शौक सा बन गया है। युवा अधिवक्ता को ढंग से सुना तक नहीं जाता।

अगर अधिवक्ता तारीख माँगे तो साफ मना कर दिया जाता है कि आज ही गवाही कराओ/आगे बहस करो और जज की मर्जी है तो बेवजह तारीख पे तारीख दी जाती हैं भले ही अधिवक्ता केस में गवाही कराने या बहस करने को तैयार हो। यदि अधिवक्ता जज का कहना मान लें तो ठीक नहीं तो मनमानी तारीख व फैसले दिए जा रहे हैं कुछ बोलने पर अधिवक्ता के खिलाफ अदालत की अवमानना की कार्यवाही की धमकी दी जाती हैं। सभी अधिवक्ताओं ने माँग की कि माननीय मुख्य न्यायाधीश, पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट व सुप्रीम कोर्ट इस का संज्ञान लेते हुए शीघ्र उचित कदम उठाएं व विधि विरुद्ध कार्य कर रहे न्यायाधीशों के विरुद्ध कड़ी अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाए।

इस प्रदर्शन के बड़ा फरीदाबाद के भ्रष्ट जजों को हटाने के लिए भारत के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश के नाम ज्ञापन दिया गया और पत्र में फरीदबाद के भ्रष्ट जजों की शिकायत की गयी.

इस अवसर पर वकील एलएन पाराशर ने फरीदबाद के कुछ जजों के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए जोरदार भाषण दिया, नीच वीडियो का लिंक शेयर किया गया है.